Edit Page

उत्तराखंड से हुई आदर्श लोकायुक्त की शुरुआत

Publsihed: 30.Oct.2011, 20:30

कहते हैं, दूध का जला छाछ को भी फूंक-फूंककर पीता है। कर्नाटक में लोकायुक्त की मार से सहमी भारतीय जनता पार्टी पर यह कहावत कितनी लागू होती है, यह तो अभी नहीं कहा जा सकता। लेकिन जिस तेजी से भाजपा ने उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बदला, उससे कर्नाटक का सबक सीखने की भनक तो लगी ही। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप सुर्खियों में नहीं आए थे। गाहे-बगाहे अदालतों में भ्रष्टाचार के मामले जरूर आए। अदालतों ने तीखी टिप्पणियां भी की, सरकार के कुछ फैसले रद्द भी किए। विपक्ष भ्रष्टाचार के मामले उजागर करता, उससे पहले ही कर्नाटक के लोकायुक्त की रिपोर्ट आ गई। कर्नाटक के मुख्यमंत्री को

नेताओं की करनी और कथनी

Publsihed: 28.Oct.2011, 15:23

यह अच्छी बात है कि प्रधानमंत्री  मनमोहन सिंह आखिरकार कपिल सिब्बल और पी चिदम्बरम के प्रभाव से बाहर आ गए हैं। अन्ना हजारे और बाबा रामदेव के मामले में सारी गलतियां उन्हीं की करी धरी थी। हाल ही की अपनी विदेश यात्रा से लौटते हुए मनमोहन सिंह ने यह कहते हुए अन्ना हजारे की तारीफ की कि उनकी आंदोलन के सकारात्मक पहलू सामने आए हैं। शनिवार को सीबीआई और भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसियों के द्विवार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने वही बात दोहराई। उन्होंने माना कि लोकपाल के गठन को लेकर हुए आंदोलन ने सार्वजनिक जीवन में स्वच्छता के मुद्दे को हमारी राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के एजे

आरटीआई और राजनीतिज्ञों-नौकरशाहों का गठजोड़

Publsihed: 28.Oct.2011, 15:14

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अचानक अपने ही बनाए एक कानून पर चिंतित हो उठे हैं। उनकी पार्टी के मंत्री और कई सांसद तो पहले से ही चिंतित थे। अकसर सत्ताधारी दल के सांसदों को अपनी ही सरकार से तरह-तरह की शिकायतें रहती हैं। उनके काम तीव्र गति से नहीं होते या कई बार होते ही नहीं। उन्हीं की पार्टी के मंत्री उनकी सुनते नहीं या कई बार मिलने तक का समय नहीं देते। पर यह अनोखा उदाहरण सामने आया है जब प्रधानमंत्री को अपने ही बनाए कानून पर फिक्रमंद देखा जा रहा है। यह चिंता है सूचना के अधिकार कानून के तहत जनता को मिल रही सरकार और अफसरों के दुष्कर्मो की सूचनाओं को लेकर। संभवत: यूपीए सरकार ने अपन

हिसार भाजपा के लिए भी सबक

Publsihed: 24.Oct.2011, 11:33

हिसार का चुनाव नतीजा कांग्रेस के लिए ही नही, भाजपा के लिए भी सबक लेने का मौका है. कांग्रेस ने अपनी साख बेह्द खराब कर ली है. जमानत जब्त होना कांग्रेस के लिए चिंता का विषय होना चाहिए. टीम अन्ना कांग्रेस के खिलाफ प्रचार करने ना जाती तो उसकी जमानत कतई जब्त नही होती. टीम अन्ना भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाने में कामयाब रही. इससे यह भी जाहिर हो गया है कि देश की जनता भ्रष्टाचार से कितनी त्रस्त है. जो लोग यह मानते हैं कि भ्रष्टाचार अब चुनावी मुद्दा नही बनता उनके लिए भी यह चुनाव बडा सबक है. देश की जनता को अगर कोई सही वकत पर जगा दे, तो वह जग भी जाती है.

जनाक्रोश और जनतंत्र

Publsihed: 24.Oct.2011, 11:26

अन्ना  टीम के सदस्य और प्रसिध वकील प्रशांत भूषण के चेम्बर में घुस कर तीन युवकों ने उनकी पिटाई कर दी. जिस की जितनी निंदा की जाए कम है. जनतंत्र में ऐसी हिंसा की इजाजत नहीं दी जा सकती. उनका कसूर सिर्फ यह था कि उन्होंने कश्मीर पर एक ऐसा बयान दे दिया था, जो इन युवकों को पसंद नही था. वह बयान ज्यादतर भारतीयों को पसंद नहीं आया होगा. बिना लाग-लपेट बयान को प्रस्तुत करें तो उन्होंने कहा था कि कश्मीरियों को साथ रखने की कोशिश करनी चाहिए, लेकिन अगर वे साथ नहीं रहना चाहें तो उन्हें अलग होने देना चाहिए.

लादेन के बाद भारत-अफगानिस्तान

Publsihed: 02.May.2011, 23:03

ओसामा बिन लादेन के मारे जाने से ३६ घंटे पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिह ने अपना अफगानिस्तान दौरा स्थगित किया। मनमोहन सिंह के दौरे की तारीख तय नहीं हुई थी, पर यह तय था कि वह मई महीने में अफगानिस्तान जाएंगे। शनिवार को नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय सूत्रों ने प्रधानमंत्री का दौरा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने की बात कही। रविवार को अमेरिकी ऑप्रेशन में ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से डेढ़ सौ किलोमीटर दूर एबोटाबाद में मारा गया। अमेरिका ने दावा किया है कि ओसामा बिन लादेन की खोज अगस्त २०१० में कर ली गई थी। स्वाभाविक है कि पाकिस्तान को अमेरिका ने इसकी जानकारी नहीं दी होगी। अन्यथा जिस प्रकार पहले ओसामा बिन लादेन तौरा-बोरा से भाग जाने में सफल हुए थे, वैसे ही अब भी सफल हो जाते। यह कोई भी मानने को तैयार नहीं हो सकता था कि लादेन के इस्लामाबाद से सिर्फ १५० किलोमीटर पर एक कस्बे में रहने की पाक खुफिया एजेंसियों को पहले से जानकारी नहीं होगी।

एक शाम राम के नाम....

Publsihed: 12.Apr.2011, 23:29

प्रतिभा आडवाणी का एसएमएस था। रामनवमी की पूर्व संध्या पर एक घंटे की डाक्यूमेंट्री देखने का न्यौता था। ताकीत थी- आ रहे हों, तो एसएमएस से पुष्टि कर दें। साथ में चाय का लालच भी था। सो अपन ने आने की पुष्टि कर दी। यों अपन जानते हैं- इस परिवार में चाय का मतलब होता है- कुछ चटपटा हो जाए। गोल-गप्पे, दही-भल्ले, पापड़ी-भल्ले, पाव-भाजी, छोले-कुल्चे, जलेबी वगैरहा।

दादागिरी पर भारी पडी अण्णागिरी

Publsihed: 10.Apr.2011, 19:45

मनमोहन सिहं इतने भोले भी नही। आधुनिक गांधी अण्णा हजारे की बातें नहीं मानने की पूरी कोशिश की थी उनने। तीन दिन तक मनमोहन सिंह के नुमाइंदे कपिल सिब्बल संविधान की दुहाई देकर समझाने-बुझाने की कोशिश कर रहे थे। अण्णा के नुमाइंदे अरविद केजरीवाल को बता रहे थे जो निवाचित नही हुए, वे कानून बनाने वाली कमेटी में कैसे आएंगे। आएंगे भी, तो सरकारी नोटिफिकेशन कैसे होगा। कपिल सिब्बल के मन में धुकधुकी भी थी, किसी ने सोनिया गांधी की रहनुमाई वाली एनएसी पर सवाल उठाया तो क्या होगा। एनएसी मैंबर कौन से चुनकर आए हैं, सारे सरकारी बिलों की हरी झंडी पहले उन्हीं से लेती है सरकार। उनके नामों की नोटिफिकेशन कैसे की थी सरकार ने।

आलोक तोमर का चला जाना

Publsihed: 29.Mar.2011, 19:02

आलोक जी के साथ बहुत पुराना रिश्ता था, भले ही मैं चंडीगढ़ जनसत्ता में था, वह दिल्ली में थे. पर हमारी मुलाकात 1989 में मेरे जनसत्ता ज्वाइन करने से पहले की थी. मैने बाद में जनसत्ता ज्वाइन किया, पर छोडा आलोक तोमर से पहले. हम दोनो जब जनसत्ता छोड चुके थे तो अक्सर मुलाकातें हुआ करतीं थी. मैने अपने जीवन में आलोक तोमर जैसा धुरंधर लिखाड नही देखा. लेखनी पर जबरदस्त पकड थी. वैसे तो प्रभाष जोशी जी ने एक बखिया उधेडने वाले छांटे थे… इसीलिए स्लोगन भी था… सबकी खबर दे, सबकी खबर ले… पर किसी की बखिया उधेडनी हो, तो आलोक तोमर की शब्दावली उधार लेनी पडती थी. आलोक तोमर जैसा खबरची और शब्दों का खिलाडी न पहले कभी हुआ, न आगे कभी होगा. आलोक ने अपने जीवन में कई प्रयोग किए. बहुत कम लोग जानते होंगें… अमिताभ बच्चन के कौन बनेगा करोडपति प्रथम के सारे सवाल आलोक तोमर ने तैयार किए थे.