India Gate Se

Published: 12.Apr.2019, 10:49

अजय सेतिया / यह एक अच्छा कदम है कि राजनीतिक दल सत्ता हासिल करने के बाद जिस तरह उद्योगपतियों को सरकारी सम्पदा लुटा कर काला धन हासिल करती हैं, उस की पोल खुल रही है | 

 

          

चुनाव प्रचार अपने न्यूनतम स्तर पर पहुँच गया है | चुनाव आयोग को सरकार की हर गतिविधि पर दखल देना पड रहा है , आयोग की भी सम्भवत ऐसी किरकिरी पहले कभी नहीं हुई होगी , जैसी इस बार हो रही है | हर रोज चुनाव आयोग को नए तरह की शिकायत का सामना करना पड़ रहा है | कभी चुनाव में सेना के शौर्य को भुनाने की शिकायत तो कभी आयकर विभाग की छापेमारी पर शिकायत |  

पहली बार सरकारी एजेंसियां चुनाव में धन का इस्तेमाल रोकने के प्रयास कर रही हैं , इस से पहले पिछले तीन चार चुनावों से चुनाव आयोग ने अपने प्रवेक्षकों के माध्यम से चुनाव ने धन बल रोकने का प्रयास जरुर किया था, इन्हीं प्रयासों के अंतर्गत वाहनों की चेकिंग में करोड़ों रूपए का कैश पकड़ा जाता रहा है | जब निजी वाहनों की चैकिंग में कैश पकड़ा जाने लगा तो राजनीतिक नेताओं ने ट्रेन और बसों…

और पढ़ें →
Published: 17.Mar.2019, 22:20

आलोक तोमर की याद में आज हुए आठवें वार्षिक समारोह में मोदी सरकार विरोधियों का जमावड़ा था । पिछले साल भी मोदी सरकार निशाने पर थी । यह मंच एक खास विचारधारा का भड़ास मंच बन गया है । इस बार तो विषय मे भी कोई परहेज नहीं रखा गया था । विषय था क्या हिंदी पत्रकारिता का यह दब्बू युग है । सभी वक्ताओं का एक ही एजेंडा था कि मोदी को हिंदी पत्रकारिता के दब्बू युग का कारण बताया जाए ।

भीड़ अच्छी थी, कोई पांच सौ से ज्यादा लोग आलोक तोमर की याद में पहुंचे थे | आलोक जी की पत्नी सुप्रिया राय पिछले आठ साल से उन की याद में गोष्ठी का आयोजन करती है | आलोक जुझारू पत्रकार थे , मेरा उन से परिचय जनसत्ता के दिनों में हुआ | उन दिनों वह हिन्दी पत्रकारिता के चमकते हुए सितारे थे , उनकी जोरदार लेखनी के सब दीवाने थे | अटल बिहारी वाजपेयी से , चन्द्र शेखर तक और वीपी सिंह से ले कर अर्जुन सिंह तक उन की लेखनी का लोहा मानते थे, इन सभी के साथ उन के बहुत घनिष्ट सम्बन्ध बन गए थे | अमिताभ बच्चन ने जब कौन बनेगा करोडपति शुरू किया था, तो अमिताभ बच्चन की ओर से पूछे जाने वाले सवाल आलोक तोमर ही लिखते थे | उन्हें कभी किसी ने भाजप…

और पढ़ें →
Published: 13.Mar.2019, 19:11

 

प्रियंका गांधी ने चुनाव का नेरेटिव बदलने की कोशिश की है | सिर्फ मोदी विरोध और बेसिरपैर के आरोपों की बजाए उन्होंने मोदी सरकार की नाकामियों को चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश की है | कांग्रेस के कार्यकर्ता प्रियंका की मेडन स्पीच से गदगद हैं |

इंडिया गेट से अजय सेतिया

प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव बनाया गया , तो भाजपा समर्थकों ने सोशल मीडिया पर खिल्ली उड़ाते हुए लिखा कि उन की योग्यता सिर्फ यह है कि उन के नैन-नक्श खासकर नाक इंदिरा गांधी से मिलती-जुलती है | सोनिया गांधी को छोड़ कर गांधी परिवार के सभी सदस्यों ने हमेशा अपनी राजनीति की शुरुआत कांग्रेस महासचिव पद से और उत्तरप्रदेश से ही की है, इसलिए प्रियंका गांधी ने भी अपनी पहली राजनीतिक झलक लखनऊ में रोड शौ से दिखाई  | लेकिन कांग्रेस ने इस बात का ध्यान रखा कि सारा शौ प्रियंका न लूट जाए, इसलिए राहुल गांधी भी उन के साथ थे | भाई–बहन की जोड़ी उसी तरह मैदान में उतरी , जैसे कभी मुलायम सिंह ने अपने बेटे अखिलेश को लांच किया था | लखनऊ की सिर्फ एक झलक के बाद प्रियंका गांधी राजनीतिक परिदृश्य से गायब हो गई थी , ऐसा म…

और पढ़ें →
Published: 07.Mar.2019, 19:08

इंडिया गेट से अजय सेतिया / लोकसभा चुनावों की घोषणा किसी भी समय हो सकती है | पिछली बार 5 मार्च 2014 को चुनावों की घोषणा थी | जैसा कि शुरू से ही संकेत मिल रहे थे, इस बार दो-चार दिन बाद ही चुनावों की घोषणा होगी | नरेंद्र मोदी और अमित शाह के बाद राजनाथ सिंह ने भी अपने विरोधियों पर राजनीतिक हमले शुरू कर दिए हैं | इस से साफ़ है कि पाकिस्तान से तनाव के बीच ही भाजपा ने बड़े पैमाने पर चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं | अलबत्ता इस बार कश्मीर और पाकिस्तान को लोकसभा चुनाव का केंद्र बिन्दु बनाने की रणनीति बना ली है | पुलवामा की घटना और उस के बाद पाकिस्तान पर किए गए हवाई हमले ने नरेंद्र मोदी का ग्राफ फिर बढ़ा दिया है | लोग पाकिस्तान पर की गई कार्रवाई की तुलना 2008 में मुम्बई पर हुए आतंकी हमले से कर रहे हैं, जब मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की थी | मोदी और उनकी टीम इन्ही जनभावनाओं को उभार कर वोट बैंक में परिवर्तित करने की रणनीति पर चल रहे हैं |

मोदी कश्मीर मुद्दे पर आम जनमानस के भावनात्मक लगाव और पाकिस्तान के खिलाफ आक्रोश को भली भांति समझते हैं | इसलिए उन्होंने वि…

और पढ़ें →
Published: 04.Mar.2019, 16:26

मोदी ने कांग्रेस की सामान्य बुद्धि पर सवाल उठाया है । ठीक ही सवाल उठाया । मोदी की यह बात सारे देश को समझ आ चुकी है कि अगर भारत के पास राफेल होता तो नतीजे कुछ और होते । पर कांग्रेस ने इस का अर्थ यह निकाला कि एयरफोर्स का आपरेशन फेल हो गया । मोदी ने आज कांग्रेस की सामान्य बुद्धि पर सवाल उठाते हुए बताया कि इस का मतलब है, पाकिस्तान के परखचे उड़ गए होते ।

असल में कांग्रेस यह समझ रही है कि उसे मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने के कारण सत्ता मिली है । सच यह है कि इन तीनों राज्यों में भाजपा के खिलाफ एंटीइंकम्बेंसी के कारण सत्ता मिली । इस के अलावा किसानों को कर्ज माफी के वायदे और बेरोजगारी ने कांग्रेस के पक्ष में हवा बनाई थी ।

कांग्रेस के तीन बड़े नेताओं दिग्विजयसिंह, कपिल सिब्बल और पी.चिदम्बरम ने पाकिस्तान पर हुए एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाए हैं । असल में ये सवाल इंटरनेशनल मीडिया के बहकावे में आ कर उठाए गए हैं। अंतरराष्ट्रीय मीडिया , खासकर बीबीसी का कहना है कि भारत के एयर स्ट्राइक से पाकिस्तान में कोई जनहानि नहीं हुई, अलबत्ता जंगल मे कुछ दरख़…

और पढ़ें →
Published: 03.Mar.2019, 19:16

अजय सेतिया / विंग कमांडर अभिनंदन सकुशल भारत लौट आया | देश के साथ मोदी सरकार ने भी राहत की सांस ली है | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 फरवरी को पाक पर एयर स्ट्राईक के बाद चुरू में छप्पन इंची छाती दिखाते हुए कहा था कि देश नहीं झुकने देंगे | लेकिन अगले दिन जैसे ही विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को बंदी बनाए जाने की खबर आई , मोदी सरकार की सांस फूली हुई थी ,क्योंकि विपक्ष को सरकार के खिलाफ राजनीतिक माहौल बनाने का मौक़ा मिल गया था | भारत सरकार ने 1949 की तीसरी जिनेवा संधि का हवाला देकर पाकिस्तान से गुहार लगाई कि पायलट को बिना कोईनुक्सान पहुंचाए , तुरंत लौटाया जाए |

इस मुद्दे पर उमर अब्बदुला का ट्विट काबिल-ए-गौर है, उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को नसीहत दी थी कि अन्तराष्ट्रीय दबाव में पायलट को भेजना पड़े, इससे पहले वह खुद ही पायलट को वापस भेज दें | पाकिस्तान अभिनंदन का इस्तेमाल वैसे ही करना चाहता जैसे कोई अपहरण कर के फिरौती की मांग करता है | मोदी सरकार की तारीफ़ करनी पड़ेगी कि उन्होंने बिना शर्त, बिना कोई नुक्सान पहुंचाए तुरंत अभिनंदन को भारत के हवाले करने की चेता…

और पढ़ें →
Published: 01.Mar.2019, 19:06

इंडिया गेट से अजय सेतिया / लोकसभा चुनाव से ठीक पहले नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को 56 ईंच का सीना दिखा कर विपक्षी दलों की उम्मींदों पर पानी फेर दिया है | पुलवामा में सीआरपीएफ के दस्ते पर हुए आतंकी हमले के ठीक 12 दिन बाद 26 फरवरी को तडके भारतीय वायु सेना पाकिस्तान पर एक तरह से हवाई हमला कर दिया | पाकिस्तान ने खुद हमले की पुष्टि कर दी तो राहुल गांधी के लिए सर्जिकल स्ट्राईक की तरह सवाल उठाने का मौक़ा नहीं रहा | राहुल गांधी ने अपनी पिछली गलती को सुधारते हुए तुरंत भारतीय सेना को बधाई दी | उडी के बाद जमीनी सर्जिकल स्ट्राईक और पुलवामा के बाद हवाई सर्जिकल स्ट्राईक कर के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान और भारत दोनों देशों की जनता को कांग्रेस की सरकार होने और भाजपा की सरकार होने का अंतर बता दिया है | पाक पर हवाई हमले के बाद मोदी ने जिस तरह चुरू में सौगंध खा कर देश के प्रति समर्पण की प्रतिज्ञा ली है, उसके बाद देश के सभी नेता बौने हो गए हैं |

मई 1999 में पाकिस्तान की फौजें कारगिल की पहाडियों में घुस आई थीं, तो वाजपेयी सरकार ने परमाणु युद्ध की आशंकाओं के बावजूद युद्ध का बिगुल…

और पढ़ें →
Published: 26.Feb.2019, 18:24

इंडिया गेट से अजय सेतिया / लोकसभा चुनाव से ठीक पहले नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को 56 ईंच का सीना दिखा कर विपक्षी दलों की उम्मींदों पर पानी फेर दिया है | पुलवामा में सीआरपीएफ के दस्ते पर हुए आतंकी हमले के ठीक 12 दिन बाद 26 फरवरी को तडके भारतीय वायु सेना पाकिस्तान पर एक तरह से हवाई हमला कर दिया | पाकिस्तान ने खुद हमले की पुष्टि कर दी तो राहुल गांधी के लिए सर्जिकल स्ट्राईक की तरह सवाल उठाने का मौक़ा नहीं रहा | राहुल गांधी ने अपनी पिछली गलती को सुधारते हुए तुरंत भारतीय सेना को बधाई दी | उडी के बाद जमीनी सर्जिकल स्ट्राईक और पुलवामा के बाद हवाई सर्जिकल स्ट्राईक कर के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान और भारत दोनों देशों की जनता को कांग्रेस की सरकार होने और भाजपा की सरकार होने का अंतर बता दिया है | पाक पर हवाई हमले के बाद मोदी ने जिस तरह चुरू में सौगंध खा कर देश के प्रति समर्पण की प्रतिज्ञा ली है, उसके बाद देश के सभी नेता बौने हो गए हैं |

मई 1999 में पाकिस्तान की फौजें कारगिल की पहाडियों में घुस आई थीं, तो वाजपेयी सरकार ने परमाणु युद्ध की आशंकाओं के बावजूद युद्ध का बिगुल…

और पढ़ें →
Published: 19.Feb.2019, 19:33

अजय सेतिया / पुलवामा की घटना ने चुनावी समीकरण बदल दिए हैं | नरेंद्र मोदी ने 5 साल हिन्दू एजेंडे पर कोई काम नहीं किया | हिंदुत्व के एजेंडे को अगली सरकार पर छोड़ने के लिए उन्होंने आरएसएस को मना लिया था | पर पुलवामा की घटना की सब से पहली प्रतिक्रिया यह हुई कि शिवसेना और भाजपा के मनभेद दूर हो गए | पुलवामा की घटना ने मोदी पर कश्मीर मामले में दबाव बना दिया है | सारा देश मांग कर रहा है कि वह एक सप्ताह का विशेष सत्र बुला कर , जरूरत पड़े तो संयुक्त अधिवेशन से 370 और 35 ए की विदाई करें, ताकि गैर कश्मीरियों के जमीने खरीदने का रास्ता साफ़ हो | कश्मीर में भारत के इन्टेग्रेष्ण का वही रास्ता है | ऐसा कदम मोदी की दुबारा वापसी की पक्की शर्त भी साबित होगा , क्योंकि देश की जनता का कश्मीर से भी रामजन्मभूमि जैसा ही लगाव है | लेकिन नरेंद्र मोदी कोई बड़ा कदम उठाते दिखाई नहीं देते वह पाकिस्तान का एमऍफ़एन स्टेट्स वापस लेने , हुर्रियत नेताओं की सुरक्षा वापसी और पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन लगाने जैसे छुटपुट कदम उठा कर ही हिन्दू वोटरों का गुस्सा शांत करना चाहते हैं |

इस के बावजूद पुलवामा की घटना…

और पढ़ें →
Published: 18.Nov.2018, 09:31

सुप्रीमकोर्ट ने संविधान में महिलाओं को मिले बराबरी के कानूनी अधिकार पर फैसला किया है | सवाल यह पैदा होता है कि क्या कोर्ट में बराबरी का हक मांगने के लिए गई महिलाओं की शनी शिगनापुर और सबरीमाला में कोई आस्था है या यह राजनीतिक लड़ाई है |

अजय सेतिया

शनी शिगनापुर और सबरीमाला मंदिरों पर सुप्रीमकोर्ट के फैसलों से हिन्दू समाज के एक वर्ग में पनपे आक्रोश से अदालत की भूमिका पर सवाल खड़े होने शुरू हुए हैं | हिन्दू समाज कितना आक्रोशित है , इस का अनुमान सबरीमाला में देखने को मिल रहा है , जहाँ केरल सरकार चाह कर भी सुप्रीमकोर्ट का फैसला लागू नहीं करवा पा रही | सुप्रीमकोर्ट के फैसले के बाद जब मंदिर के द्वार खुले तो प्रशासन ने तीन महिलाओं को ले जाने की कोशिश की थी , लेकिन श्रद्धालुओं की भीड़ ने उन का ही नहीं, प्रशासन का भी रास्ता रोक दिया | अंतत: वे बिना दर्शन किए ही वापस लौटी |

शनी शिगनापुर में महिलाओं को दर्शन के अधिकार की लड़ाई लड़ने वाली मुम्बई निवासी तृप्ती देसाई 16 नवम्बर को सबरीमाला के दर्शन करने कोच्ची गई थी , लेकिन हजारों की भीड़ ने सुबह सवेरे चार बजे से कोच्ची हवाई अड्डे…

और पढ़ें →