India Gate Se

Published: 14.Aug.2018, 20:39

अजय सेतिया / वह 12 मई 1946 था , जिस दिन भारत की आज़ादी का प्रस्ताव चांसलर के सामने पेश किया गया | तीन जून 1947 को माऊंटबेटन योजना की घोषणा की गई | इस योजना में एक सलाह यह थी कि 562 रियासतें अपना भविष्य खुद तय करें | ब्रिटिश संसद ने 18 जुलाई को भारत की आज़ादी का बिल पास किया | यह बिल भारत पाक बंटवारे का था | बंटवारे के समय बलूचिस्तान पर कलात के राजा अहमद यार खान का शासन था , जो अलग स्वतंत्र राष्ट्र बनाने पर अड़े हुए थे | बलूचिस्तान पाकिस्तान के बीच पड़ता था | इस लिए माऊंटबेटन ने 19 जुलाई को अहमद यार खान और मुस्लिम लीग के प्रतिनिधियों की मीटिंग करवाई | पर अहमद यार खान बलूचिस्तान के स्वतंत्र रियासत बने रहने पर अड़े रहे |

27 जून 1947 को माऊंटबेटन ने सरदार पटेल की रहनुमाई में “राज्य विभाग” का पुनर्गठन किया | वीपी मेनन को पटेल का सहयोगी बनाया गया | 5 जुलाई को सरदार पटेल सभी रियासतों को चिठ्ठी लिख कर भारत में विलय की पेशकश की | माऊंटबेटन ने 25 जुलाई 1947 को सभी रियासतों के राजाओं को बुलाया | इस बैठक में माऊंटबेटन ने सभी राजाओं को सलाह दी कि वे भारत पाकिस्तान में से एक चुन लें |…

और पढ़ें →
Published: 13.Aug.2018, 14:07

अजय सेतिया / लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव साथ करवाना फिर एजेंडे पर आ गया | भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस बाबत विधि आयोग को चिठ्ठी लिखी है | अपनी इस धारणा की फिर पुष्टि हो रही है कि दर्जन भर विधानसभाओं के चुनाव लोकसभा के साथ होंगे | यह बात अपन पिछले तीन चार महीनों से लिख रहे हैं | सवाल यह है कि लोकसभा के चुनाव दिसम्बर में हो रहे हैं या चार विधानसभाओं के चुनाव टल रहे हैं | वैसे चुनाव आयोग को लोकसभा के चुनाव भी दिसम्बर में करवाने का हक है | उस के लिए लोकसभा का भंग होना भी जरूरी नहीं | पर लोकसभा के चुनाव दिसम्बर में होने की बजाए चार विधानसभाओं के चुनाव टलने की सम्भावना ज्यादा है | मोदी क्यों अपना कार्यकाल कम करेंगे | मोदी को याद होगा कि वाजपेयी को अपना कार्यकाल कम करना महंगा पड़ा था | हाँ लोकसभा के चुनाव अप्रेल की बजाए फरवरी में हो सकते हैं | वैसे पांच राज्यों उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, सिक्किम और अरुणांचल प्रदेश के चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं | मध्यप्रदेश , छतीसगढ़ , राजस्थान, मिजोरम के चुनाव दिसम्बर के बजाए फरवरी या अप्रेल में हों तो आसमान नहीं गिर जाएगा |

अगर चा…

और पढ़ें →
Published: 10.Aug.2018, 20:12

अजय सेतिया / अपन हमेशा से कहते रहे हैं कि संसद बहुमत से नहीं चलती | यह बात मानसून सत्र के आख़िरी दिन 10 अगस्त को फिर साबित हुई | एक दिन पहले ही राज्यसभा के उपसभापति का चुनाव जीत कर भाजपा उत्साहित थी | चौबीस घंटे बाद ही विपक्ष ने उसी राज्यसभा में सरकार को दिन में तारे दिखा दिए | सरकार शुक्रवार को भी कई बिल पास करवाना चाहती थी | शुक्रवार के दिन सरकारी कामकाज की परम्परा नहीं | लोकसभा में प्राईवेट मेंबर बिल और राज्यसभा में प्राईवेट मेंबर प्रस्तावों पर बहस होती है | सत्र के आख़िरी दिन का जरुर कभी कभी अपवाद रहता है | पर यह तभी सम्भव होता है जब विपक्ष सहमत हो | सरकार मनमानी से सदन की कार्यवाही नहीं चला सकती | यह पता होने बावजूद सरकार ने आख़िरी दिन के एजेंडे में ट्रिपल तलाक का बिल रख दिया | हालांकि 2017 के शीत सत्र में यह बिल लोकसभा में पास हो गया था | प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस की सहमति से पास हुआ था | कांग्रेस का इरादा राज्यसभा में अडंगा डालने का था | यह बात शुकवार सुबह संसद भवन में प्रदर्शन के दौरान सोनिया गांधी ने साफ़ कर दी थी |

सरकार ने भी दिसम्बर 2017 के बाद मुसलमानों की…

और पढ़ें →
Published: 09.Aug.2018, 14:05

अजय सेतिया / राज्यसभा में भाजपा के सांसद कांग्रेस से करीब करीब डेढ़ गुना हो गए हैं | इस के बावजूद एनडीए अभी राज्यसभा में अपना बिल पास करवाने की हैसियत में नहीं आया | एनडीए विरोधी दलों का बहुमत बना हुआ है | जिसे कांग्रेस अपने हक में इस्तेमाल कर भाजपा को लाचार साबित करती रही है | राज्यसभा ने पिछड़ा जाति आयोग बिल संशोधित कर के भेज दिया था | जिसे लोकसभा से दुबारा पास करवा कर राज्यसभा में फिर लाया गया | पर राज्यसभा के उप सभापति पद के चुनाव में कांग्रेस रणनीति में मात खा गई | नरेंद्र मोदी राज्यसभा में बहुमत नहीं होने से घबराए हुए थे | खबर तो यह आ रही थी कि उप सभापति का चुनाव ही नहीं करवाया जाएगा | सभापति का पैनल ही काम करता रहेगा | वैसे भी सख्त हेडमास्टर के चलते उपसभापति की ज्यादा भूमिका नहीं रहने वाली | पर समझदार लोगों ने समझाया कि यह अलोकतांत्रिक कदम महंगा पडेगा | विपक्ष मोदी को अलोकतांत्रिक ठहराने में इसे सबूत के तौर पर पेश करेगा |

मोदी के पास एक ही रास्ता था , वह था विरोधी दलों में सेंध लगाना | अब जबकि देश की राजनीति दो ध्रुवों में बंटनी शुरू हो चुकी है | मोदी के मुकाबले…

और पढ़ें →
Published: 08.Aug.2018, 21:14

अजय सेतिया / अपन ने पहले ही लिखा था कि मंजू वर्मा को बचाते बचाते नीतीश बाबू कहीं खुद की कुर्सी न गवा लें | मंजू वर्मा के पति का बृजेश ठाकुर से गहरा रिश्ता था | अंतत : नीतीश बाबू को अहसास हो गया कि वह आग से खेल रहे हैं | इस लिए बुधवार को उन ने मंजू वर्मा से इस्तीफा ले लिया | लालू यादव के बेटे तपस्वी यादव और राहुल गांधी ने नीतीश कुमार को कटघरे में खड़ा कर दिया था | खबर आ रही थी कि बृजेश ठाकुर मंत्री मंजू यादव के पति को खुश करता था | बच्चियों का आश्रय गृह खोल कर बृजेश जनता की नजर में समाज सेवी बना हुआ था | पर उन बच्चियों का यौन शोषण किया जा रहा था | अपन पहले ही आशंका जता चुके हैं कि बृजेश अनाथ बच्चियों का यौन शोषण करता और करवाता भी था | राजनेता और अफसर इस काले धंधे में बृजेश के साथी थे | किस किस नेता और अफसर ने अपना मुहं काला किया | अभी इस का खुलासा होना बाकी है | सीबीआई जांच कर ही रही है | अब सुप्रीमकोर्ट ने भी निगरानी शुरू कर दी है |

बृजेश ठाकुर ने अपना प्रभाव जमाने के लिए बिहार में कई अखबार भी निकाल लिए थे | उस के प्रभाव का दायरा दिल्ली तक फ़ैल चुका था | कई नेताओं के य…

और पढ़ें →
Published: 07.Aug.2018, 22:38

अजय सेतिया / अखिलेश यादव ने देवरिया शेल्टर होम कांड पर कहा है, " जो भी बेटियों के साथ हुआ, उससे दिल दहलता है... उन दोषियों की, जो शेल्टर होम का लाइसेंस रद्द होने के बाद भी उसकी मदद करने के लिए भागदौड़ कर रहे थे, पोल खुलनी चाहिए... जिलाधिकारी को बदल देने से कुछ नहीं होगा, इससे न्याय नहीं मिलेगा..." अपना तो मानना है कि जब तक जिलाधिकारी सस्पेंड होने शुरू नहीं होंगे तब तक कुछ बदलाव नहीं होगा | उत्तर भारत में मुजफ्फरपुर के बाद देवरिया में बच्चों के देह व्यापार का भंडा फूटा है | तो इसी हफ्ते आंध्र प्रदेश के वारंगल जिले में भी देह व्यापार के लिए बच्चियों की ट्रेफिकिंग का भंडा फूटा है | हैदराबाद से 62 किलोमीटर दूर यादद्री में 15 बालिकाएं मुक्त करवाई गई हैं | मुजफ्फरपुर और देवरिया में जिलाधिकारियों की आपराधिक लापरवाही सामने आई है | जब अपन लापरवाही कह रहे होते हैं तो अपन उसे बेगुनाह मान रहे होते हैं | पर हर जगह वे बेगुनाह नहीं होते | कई जगह वह लापरवाही जानबूझ कर की जाती है |

बच्चियों के यौन शोषण में अफसरों और राजनीतिज्ञों की मिलीभगत सामने आने वाली है | बिहार की मंत्री मंजू याद…

और पढ़ें →
Published: 06.Aug.2018, 19:38

अजय सेतिया / टाटा इंस्टीच्यूट आफ सोशल साईंस ने एक बार फिर अपनी प्रतिबद्धता साबित की है | उसी ने बिहार के मुजफ्फरपुर में बच्चियों के यौन शोषण का भंडा फोड़ा | मुजफ्फरनगर के इस शैल्टर होम में 33 बच्चियों का लगातार यौन शोषण हो रहा था | कई बच्चियों को रात में कार पर बाहर ले जाया जाता था | सुबह वे सुबकती हुई वापस लौटती थी | तो क्या उन बच्चियों को राजनीतिक नेताओं और अफसरों की हवस का शिकार बनाया जाता था | सीबीआई की रिपोर्ट कितनी तह तक जाएगी , यह वक्त ही बताएगा | टिस की पूरी रिपोर्ट भी अभी जगजाहिर नहीं हुई | पर इस रिपोर्ट में सिर्फ मुज्फ्फरनगर नहीं ,बिहार के कम से कम 15 बाल गृहों में बच्चियों के यौन शोषण का खुलासा है | बिहार सरकार उस रिपोर्ट पर अभी भी कुंडली मार कर बैठी है | वह अपनी मंत्री को बचाने में सारा जोर लगाए हुए है | शायद इसी लिए टाटा इंस्टीच्यूट की रिपोर्ट दबाए बैठी है | कहीं ऐसा न हो कि टाटा इंस्टीच्यूट की रिपोर्ट मंत्री तो क्या , नीतीश की कुर्सी ही न उड़ा ले जाए | इसी लिए नीतीश डरे हुए हैं | जिन बाकी 15 बाल गृहों का भंडा फूटना बाकी है , उनमें कुछ का पता चला है | वे है अररिया…

और पढ़ें →
Published: 30.Jul.2018, 19:34

अजय सेतिया / अब यह करीब करीब तय है कि इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनेंगे | इमरान खान ने 22 साल पहले 1996 में राजनीति में कदम रखा था , अगले साल 1997 में पाकिस्तान की राष्ट्रीय एसेम्बली का चुनाव था | तब उन की पत्नी ब्रिटिश पत्रकार जेमिमा गोल्डस्मिथ थी , जो इमरान से निकाह के बाद उन के साथ पाकिस्तान में रह रही थी | इमरान एक  एक क्रिकेटर हैं और दुनिया भर में घूमें हैं | इसी दौरान उन की मुलाक़ात खूबसूरत पत्रकार जेमिमा से हुई थी | इमरान के पहले चुनाव में जेमिमा गोल्डस्मिथ ने भी प्रचार किया था | जेमिमा 2004 तक नौ साल उन के साथ रही | वह जब 2004 में इमरान को तलाक दे क्र अपने तीन बच्चों के साथ ब्रिटेन लौट गई | तलाक के बाद इमरान दस साल अकेले रहे | फिर 2015 में उन के जीवन में पाकिस्तानी टीवी एंकर रेहम खान आई | वह दस महीने ही उन के जीवन में रह पाई |

2016 के शुरू में खबर आई थी कि इमरान ने तीसरी शादी किसी मरियम से की है | पर वह खबर गलत निकली | इमरान ने फरवरी 2018 को पांच बच्चों की मां 48 साल की बुशरा रियाज़ वटू के तीसरा निकाह किया | जो उस मरियम की बड़ी बहन है, जिस के साथ न…

और पढ़ें →
Published: 26.Jul.2018, 19:44

अजय सेतिया / इमरान खान का पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनना अब तय है | इमरान को पाकिस्तान की सेना का समर्थन था | सो भारत में आशंका जाहिर की जा रही है कि पाकिस्तान में फ़ौजी शाषण जैसी सरकार होगी | जैसे ही चुनाव नतीजे आ रहे थे , आशंकाएं बढ़ रही थीं | भारत के लिए खतरे की घंटी बताया जा रहा है | पाकिस्तान में फ़ौज के इशारों पर नाचने वाली सरकार ठीक उस दिन आई है | जिस दिन कारगिल युद्ध की साल गिरह थी | कारगिल की साजिश रचने वाले परवेज मुशर्रफ ने सब से पहले नतीजों का स्वागत किया | इमरान खान भले ही मोदी की ईमानदारी की तारीफ़ करते रहे हैं | पर मोदी की कश्मीर नीति के घोर आलोचक भी रहे हैं | पर वे सब बातें शायद अब उतने मायने नहीं रखतीं | मायने रखती है पाक फ़ौज की रणनीति , जिसे अब इमरान को अपनाना होगा | क्या चुनाव नतीजों से पाक फ़ौज इतनी उत्साहित हो जाएगी | क्या फिर एक कारगिल जैसी साजिश होगी | भारतीय सेना ने किसी भी हालात का सामने करने की तैयारी का बयान दिया है | पहली बार सांसद बन कर मंत्री बने राज्यवर्धन सिंह राठौर का बयान तो युद्ध की तैयारी वाला लगा | तो क्या लोकसभा चुनाव होने से पहले ही युद्ध के…

और पढ़ें →
Published: 25.Jul.2018, 20:25

अजय सेतिया / अविश्वास प्रस्ताव ने कांग्रेस और भाजपा का एजेंडा तय किया है | सदन में प्रधानमंत्री मोदी को झप्पी डालने वाले राहुल गांधी डबल गेम खेल रहे हैं | अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान दोनों ने राफेल सौदे में एक दूसरे पर सदन को गुमराह करने का आरोप लगाया था | उस दिन के भाषण को आधार बना सदन में कर तल्खी पैदा हो गई है | राहुल ने मोदी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन के पांच नोटिस दिलवाए है | पांच नोटिस रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के खिलाफ भी दिलाए हैं | भाजपा ने भी राहुल गांधी के खिलाफ चार सांसदों से नोटिस दिलवा दिए हैं | कांग्रेस का दोनों के खिलाफ एक-एक नोटिस मंजूर हुआ है | भाजपा का एक नोटिस मंजूर हुआ है | इस बीच सरकार ने अपने चहेते न्यूज चेनलों को सौदे के पेपर लीक करने शुरू कर दिए हैं | अगर लीक किए गए पेपर सही हैं , तो राहुल गांधी के बुरे फसने के आसार हैं | उन ने उस दिन कहा था ,यूपीए राफेल जेट विमान को 520 करोड़ में खरीद रही थी |उसी राफेल जेट विमान को मोदी सरकार ने 1600 करोड़ रूपए में खरीदा |

पर अब लीक हुए कागजों से कुछ और ही निकला है | ये कागज बता रहे हैं कि यूपीए के समय…

और पढ़ें →