Edit Page

हिन्दू आतंकवाद की थ्योरी को अदालत में झटका  ajaysetia 21.Aug.2017, 19:46

अजय सेतिया / हमारी सेना का एक कर्नल पिछले नौ सालों से जेल काट रहा था | सुप्रीमकोर्ट ने सोमवार को लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित प्रसाद श्रीकांत को जमानत दी  | इसी सुप्रीमकोर्ट ने 2015 में मकोका हटाते हुए कहा था कि उस के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं है , इस लिए जमानत पर विचार किया जाना चाहिए | उसे क्यों फंसाया गया ?

रोहित वेमूला की जांच से मीडिया की भी साख गिरी ajaysetia 20.Aug.2017, 14:24

अजय सेतिया / जब राहुल गांधी, अरविन्द केजरीवाल, सीताराम येचुरी और मायावती ने हैदराबाद में आत्महत्या करने वाले रोहित वेमूला को दलित बता कर नरेंद्र मोदी को बदनाम करने का देशव्यापी अभियान शुरू किया था , तब मुख्यधारा के मीडिया ने विपक्षी दलों की ओर से झूठ पर आधारित अभियान चलाने में न सिर्फ मदद की थी , अलबत्ता जमीनी पत्रकारों की उन रिपोर्टों को दबा दिया गया था, जिन में राजनीतिक दलों के आरोपों को बेबुनियाद बताया गया था | विजुअल मीडिया आने के बाद देश के प्रिंट मीडिया की  ऐसी दुर्दशा हो गई है कि बड़े न्यूज चेनलों से प्रभावित हो कर ख़बरें लिखी जाने लगी हैं | खासकर देश की राजधानी क

साम्प्रदायिक बात कर वामपंथियों को रिटर्न गिफ्ट दे गए हामिद अंसारी ajaysetia 10.Aug.2017, 20:47

अजय सेतिया / हामिद अंसारी का राजनीति से कुछ लेना देना नहीं था | भैरोसिंह शेखावत 2007 में रिटायर हो रहे थे | सोनिया-मनमोहन सरकार वामपंथियों के समर्थन से चल रही थी | कांग्रेस ने महाराष्ट्र की कांग्रसी नेता प्रतिभा पाटिल को राष्ट्रपति बनाया | तो कम्यूनिस्ट पार्टी ने उप-राष्ट्रपति का पद मांग लिया | कांग्रेस के पास संसद में बहुमत नहीं था | इस तरह सोनिया गांधी को कम्यूनिस्टों की बात माननी पडी | कम्यूनिस्टों ने विदेश सेवा से रिटायर वामपंथी विचारधारा के हामिद अंसारी का नाम आगे किया | इस तरह राजनीति का अनाडी राज्यसभा का सभापति बन बैठा | पिछले दस साल में हामिद अंसारी ने राज्यसभा में

और इस तरह इस्लाम खतरे में पड जाता है ajaysetia 01.Aug.2017, 22:31

प्रवीण बागी / किसी मुस्लिम के जय श्रीराम बोलने से इस्लाम खतरे में पड़ जाता है, यह मैं पहले नहीं जनता था। मुसलमान जय श्रीराम बोलें और हिन्दू मज़ारों पर सजदा करें, मुस्लिम दुर्गा की मूर्ति उठाये और हिन्दू ताज़िया खेलें यही तो इस देश की परंपरा रही है।विशेषता है। पटना में न जाने कब से मुस्लिम महिलाओं द्वारा बनाये माटी के चूल्हे पर हिन्दू छठ का खरना प्रसाद बनाते आ रहे हैं। रमजान में हिन्दू अपने मुस्लिम सहयोगियों के लिए इफ्तार का इंतजाम करने में गर्व अनुभव करते है। यही तो हिंदुस्तान की खासियत है। इसीलिए यह पूरे विश्व में अनूठा देश माना जाता है। झगडे, दंगा-फसाद

दुनिया की बदलती खेमेबंदी में भारत  ajaysetia 25.Jul.2017, 22:20

अजय सेतिया  / भारत के प्रधानमंत्री मोदी इस महीने जब इस्रायल गए तो भारत के मुसलमान बेहद खफा हुए | इस की झलक सोशल मीडिया पर देखी गई , जो प्रिंट और विजुअल मीडिया के बाद भारत में एक सशक्त माध्यम बन चुका है | पूर्व की सभी सरकारें इस्राईल को लेकर मुस्लिम विरोध की वजह से कूटनीतिक सम्बन्ध बढाने से परहेज करती रहीं थी | नरसिंह राव दो वजहों से भारतीय मुसलमानों की नजर में हिन्दू समर्थक प्रधानमंत्री बन गए थे | उन के कार्यकाल में बाबरी ढांचा टूटने के अलावा भारत ने  इस्राईल के साथ कूटनीतिक सम्बन्ध भी स्थापित किए थे | बाद के दिनों में सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने इसीलि

इलीट दलित को हरा कर झुग्गी झौपडी वाला दलित बना राष्ट्रपति

Publsihed: 20.Jul.2017, 21:02

अजय सेतिया / राहुल गांधी ने कई दलितों के घर खाना खाया और एक बार तो रात भी बिताई | वे सब गरीब दलित थे | झुग्गी झौपडी वाले दलित | एक दलित ने तो राहुल को डिनर करवाने के लिए दस किलो आटा उधार लिया था | ये कहानिया दलित प्रेम दिखाने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं | उन का उल्लेख संसद के भाषणों में भी किया जाता है | पर जब राष्ट्रपति पद पर दलित उतारने की मजबूरी की बात आई | तो जन्म से ही इलीट क्लास की दलित दिखाई दी | जिस ने ब्राह्मण से शादी की थी और  आईऍफ़एस अधिकारी के नाते ऐशो-आराम की जिन्दगी बिताई | जबकि नरेंद्र मोदी ने बारीश में टपकती छत वाली झुग्गी में बचपन बिताने वाला उम्मी

आप सुन तो नहीं रहें होंगे....कमल दा

Publsihed: 17.Jul.2017, 10:12

प्रदीप रंवाल्टा/ कमल दा ऐसे ही लोग आपके दीवाने नहीं हैं। फेसबुक पर आज भी लोग आपकी पोस्‍टों का इंतजार कर रहे हैं।  इसका अंदाजा मुझे इस बात से ही कि मैंने आपकी वाल पर एक पोस्‍ट अपलोड की। उस पर लोगों का रिस्‍पांस बता रहा है कि वो आपको कितना चाहते हैं। आप सुन तो नहीं रहें होंगे.....?

मोदी इस्राईल की रणनीति कब अपनाएंगे 

Publsihed: 13.Jul.2017, 06:55

अजय सेतिया / सोमवार रात अनंतनाग में हुए आतंकी हमले में अमरनाथ यात्रा से लौट रहे सात तीर्थ यात्री मारे गए | आतंकी कामयाब हो जाते तो बस पर सवार सभी 61 यात्री मारे जाते | जैसे ही बस पर गोली चली बस के चालक शेख सलीम गफ्फूर ने बस को भगा कर आतंकियों की साजिश नाकाम कर दी | पाकिस्तान साम्प्रदायिक दंगे करवाने के विफल हो गया | अनंतनाग में 100-150  हिदू तीर्थ यात्रियों को मार कर मुसलमानों के खिलाफ दंगे फैलाने की साजिश थी | बिलकुल गोधरा ट्रेन के डिब्बे को जलाने जैसी साजिश |  उस साल 2002 में जब केंद्र में भाजपा की वाजपेयी सरकार थी दो बार ऐसी ही साजिश रची गई थी , जिस में वह किसी

कमल दा का कमरा  ( यादों के झरोखे )

Publsihed: 05.Jul.2017, 22:57

प्रदीप रावत / अब तो मानना ही होगा कि कमल दा नहीं रहे। उनको विदा करने गया था। कमल दा से मिलने के लिए रात को तो नहीं जा पाया, पर रातभर जागने के बाद सुबह ही चल दिया उनसे मिलने। कफन में लिपटे उनको देखा। मुझे लगा बात करेंगे। पर ओ सो चुके थे। कभी नहीं जागने के लिए। काफी देर तक उनके पास ही खडा रहा, लेकिन फिर अचानक ख्‍याल आया कि उनका कमरा देख आता हूं। जहां हम भी कई बार जाया करते थे। उनसे कुछ सीखने। कमरे में पहुंचा। जैसे पहले था। कमरा बिल्‍कुल वैसा ही था। बस उसमें वह जिंदादिली नहीं थी, जो कमल दा के होने का भान कराती। अच्‍छी तरह से निहारा। एक कोने में हमारी संस्‍कृति के अवशेष झांक रह

कमल दा....ऐसे भले कोई छोड़कर जाता है...?

Publsihed: 04.Jul.2017, 15:28

प्रदीप रवात / कमल दा, जोशी जी और कुछ लोगों के लिए फिदेल कास्‍त्रो भी। पर मेरे लिए मेरे आदर्श श्री कमल जोशी जी। अभी एक सप्‍ताह ही तो हुआ था। मेरी फेसबुक पर पोस्‍ट पर उनका कमेंट आया था। लिखा था प्राउड ऑफ यू प्रदीप। आखिरी बार उनसे 15-16 मई के आसपास बात हुई थी। उनके नहीं रहने की खबर सुनने के बाद पहले तो विस्वास ही नहीं हुआ। कोटद्वार के साथी विजय पाल रावत ने फोन पर जानकारी दी। विजय ने जोशी जी के नहीं रहने की बात कहते ही मैंने उनसे सवाल किया। विजय क्‍या ऐसा हो सकता है....? विजय का जवाब था, नहीं। फिर कैसे कह रहे हो कि उन्‍होंने आत्‍महत्या की है....?