Edit Page

हिन्दू आतंकवाद थ्योरी की साजिश में शामिल थे करकरे

Publsihed: 20.Apr.2018, 23:49

अजय सेतिया / शुक्रवार की दो बड़ी खबरों ने यूपीए सरकार के समय मुस्लिम तुष्टिकरण के लिए सत्ता के दुरूपयोग की पोल खोली है | कांग्रेस की महाराष्ट्र सरकार की ओर से कर्नल पुरोहित पर मुकददमा चलाने की इजाजत पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की इजाजत दी है | दुसरे मामले में कांग्रेस की ओर से अपने न्यायपालिका के साथियों की मदद से नरोदा पाटिया केस में फंसाई गई  बीजेपी की पूर्व मंत्री माया कोडनानी को गुजरात हाई कोर्ट ने बरी कर दिया है | उनको निचली अदालत ने 28 साल की सजा सुनाई थी | इसी बीच सेना का 16 जनवरी 2008 का वह दस्तावेज बाहर आ गया है , जिस में कहा गया है कि कर्नल पुरोहित एक मिशन पर मिलट्री इंटेलिजेंस

क़ानून संसद का नहीं पुलिस का चलता है 

Publsihed: 15.Apr.2018, 22:52

अजय सेतिया \संसद ने 2012 में योन अपराधों से बच्चों का संरक्षण करने के लिए पोक्सो क़ानून पास किया था | इस क़ानून में किसी भी तरह के अपराध की सजा कम से कम तीन साल रखी गई | वह इस लिए क्योंकि सीआरपीसी के अनुसार जो अपराध तीन साल या उस से ज्यादा सजा वाला होता है, वह गैर जमानती होता है | पोक्सो का विशेष प्रावधान यह है कि जैसे ही किसी व्यक्ति के खिलाफ पोक्सो का केस दायर होता है वह अपराधी माना जाएगा | आम तौर पर यह धारणा है कि कोई व्यक्ति तब तक अपराधी नही माना जा सकता, जब तक उस पर आरोप साबित न हो | लेकिन पोक्सो की धारा 29 में यह प्रावधान किया गया है कि पोक्सो की धारा 3 ,5 ,7 और 9 में केस दर्ज होते

योगी और महबूबा ने बिगाड़ दी भाजपा की छवि

Publsihed: 14.Apr.2018, 12:21

अजय सेतिया / नाबालिग लडकी से बलात्कार के अपराधी ( आरोपी नहीं, अपराधी ) भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को दस महीने तक गिरफ्तार न कर के योगी सरकार ने भाजपा को देश भर इतना बदनाम कर दिया है, कि वह कहीं मुहं छुपाने लायक नहीं रही है | काफी छीछालेदर के बाद भाजपा विधायक  कुलदीप सिंह सेंगर पोक्सो की धारा 5 के अंतर्गत गिरफ्तार किए गए हैं | इस मामले में राजनीतिज्ञों और पुलिस की मिलीभ्क्त भी साबित हो गई है | दोनों मिल कर हर रोज संसद के बनाए क़ानून को ठेंगा दिखाते हैं | संसद ने 2012 में योन अपराधों से बच्चों का संरक्षण करने के लिए पोक्सो क़ानून पास किया था | इस क़ानून में किसी भी तरह

न धर्म का पालन , न राजधर्म का 

Publsihed: 11.Apr.2018, 11:10

अजय सेतिया / किशोरी से बलात्कार और उस के पिता की हत्या के आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का उत्तरप्रदेश पुलिस बाल भी बांका नहीं कर पा रही | कुलदीप सिंह उन्नाव जिले के सबसे महत्वपूर्ण राजपूत नेता हैं , जिनकी राजनैतिक यात्रा यूथ कांग्रेस से शुरू हुई थी | वह पहली बार  2002 में मायावती की पार्टी से विधायक बने, 2007 में समाजवादी पार्टी से चुने गए, 2017 में चुनाव के आरम्भ होते ही दल बदल कर भाजपा में चले गए और फिर विधायक बन गए | क्योंकि कुलदीप सिंह खुद और उस के बॉस राजा भैया योगी आदित्यनाथ के समर्थक हैं, इस लिए योगी सरकार उन का बाल भी बांका नहीं होने दे रही | सुनते हैं

गोल कुंडम का तीसरा मोर्चा

Publsihed: 04.Apr.2018, 19:50

अजय सेतिया / कांग्रेस के राजनीतिक पंडित बदलती राजनीतिक फिजां पर नजर टिकाए हुए हैं | राहुल गांधी की कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर ताजपोशी के बाद अचानक से तीसरे मोर्चे की गतिविधियाँ बढ़ गई हैं | कांग्रेस के साथ गठबंधन करने वाले अखिलेश यादव भी खुद को तीसरे मोर्चे के साथ जोड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं | तीसरे मोर्चे में जान फूंकने के लिए पिछली बार सरकार बनाने वाले लोकतांत्रिक मोर्चे का कोई न कोई नेता दिल्ली आ रहा है | कुछ गतिविधियाँ दिल्ली के राजनीतिक गलियारे में हो रही हैं, तो कुछ संसद के केन्द्रीय कक्ष में भी, जिसे हिन्दी भाषी सांसदों ने अब नया नाम "गोल कुंडम" दिया है | गोल कुंडम राज

सांसदों विधायकों की पेंशन एक पेचीदा सवाल

Publsihed: 19.Mar.2018, 21:25

अजय सेतिया/ दिल्ली के वरिष्ठतम पत्रकार श्री मनमोहन शर्मा जी ने अपनी फेसबुक वाल पर आज आचार्य कृपलानी और सुचेता कृपलानी से जुड़ी एक याद साझा की है । उसे पढ़ कर सांसदों के वेतन भत्तों पर कुछ लिखना जरूरी हो गया है। पहले आप मनमोहन शर्मा जी का लिखा पढ़ें, फिर ताज़ा स्थिति पर मेरी टिप्पणी। मनमोहन शर्मा लिखते हैं :-"" आचार्य कृपलानी की बेबाक टिप्पणी से एक बार मेरा भी वास्ता पड़ा था। बात कई दशक पुरानी है। आचार्य कृपलानी अपनी पत्नी सुचेता कृपलानी सहित उन दिनों तंगदस्ती का शिकार थे। यह दम्पति बेहद ईमानदार थे। उनदिनों वे दिल्ली के ग्रीन पार्क बस्ती के एक गराज पर बने एक कमरे में रहा करते

विपक्ष से ज्यादा तो भाजपा का वर्कर खुश है 

Publsihed: 14.Mar.2018, 20:47

अजय सेतिया / उत्तर प्रदेश से लोकसभा की दो सीटों के चुनाव नतीजों ने नरेंद्र मोदी और अमित शाह को चौंकाया होगा | अलवर और अजमेर की हार का ठीकरा वसुंधरा राजे के सिर फोड़ दिया गया था | इसी लिए वसुंधरा राजे के घौर विरोधी किरोड़ी लाल मीना को राज्यसभा का टिकट दिया गया | उन्हें बदलने की अफवाहें भी फैलाई जा रही हैं | क्या अब योगी आदित्य नाथ को भी मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की अफवाहें उडाई जाएँगी | वह तो खुद अपनी लोकसभा सीट हारे हैं , क्या उप-मुख्यमंत्री मौर्य को भी हटाया जाएगा | इस से पहले मध्य प्रदेश की झाबुआ और पजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट भी भाजपा हारी थी |  ये सारी वो सीटें है

जनता अत्याचारियों के प्रतीकों को उखाड़ फैंकती है

Publsihed: 08.Mar.2018, 12:50

नई दिल्ली ( अजय सेतिया ) | त्रिपुरा में कम्युनिस्टों की हार के बाद 25 वर्ष से उन के अत्याचारों से पीड़ित जनता ने रूस के क्रांतिकारी लेनिन की प्रतिमा को बुलडोजर से गिरा दिया | जिस पर सेक्यूलर जमात फिर बिफर उठी है और भाजपा पर असहिशयुन्ता का आरोप लगा रही, जिस ने कम्युनिस्टों का 25 साल पुराना शासन उखाड़ फैंका है | 

होली पर्व के पौराणिक राज छुपे हैं पाकिस्तान में

Publsihed: 02.Mar.2018, 09:44

होली शायद दुनिया का एकमात्र ऐसा त्योहार है, जो सामुदायिक बहुलता की समरस्ता से जुड़ा हुआ है। इस पर्व में मेल-मिलाप का जो आत्मीय भाव अंतरमन से उमड़ता है, वह सांप्रदायिक अतिवाद और जातीय जड़ता को भी ध्वस्त करता है। होली का त्योहार हिरण्यकश्यपु की बहन होलिका के दहन की घटना से जुड़ा है। ऐसी लोक-प्रचलित मान्यता है कि होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था। वस्तुत: उसके पास ऐसी कोई वैज्ञानिक तकनीक थी जिसे प्रयोग में लाकर वह अग्नि में प्रवेश करने के बावजूद नहीं जलती थी |

केजरीवाल-कमल हासन वामपंथियों के शहरी चेहरे

Publsihed: 22.Feb.2018, 21:47

अजय सेतिया / जब आप पार्टी बन रही थी | तभी अपन ने एक लेख लिखा था | ओम थानवी के जमाने में जनसत्ता में भेजा गया वह अपना आख़िरी लेख था | जो छपा नहीं , और फिर अपन ने लिखा नहीं | उस लेख में अपन ने लिखा था कि केजरीवाल वामपंथी नक्सली है | उस के नक्सलियों से करीबी सम्बन्ध हैं | यों तो अपन को ओम थानवी के वामपंथी होने का पता था | पर प्रभाष जोशी की परम्परा वाले जनसत्ता में सम्पादक की विचारधारा से लेख तय नहीं होते थे | जिसे ओम थानवी ने पैरों तले रौंद दिया था | वह तो अपन को बाद में पता चला कि ओम थानवी भी केजरीवाल के बुद्धीपुरुष थे | और राज्यसभा पर निगाह टिकाए हुए थे |