India Gate Se

Exclusive Articles written by Ajay Setia

आलोक की याद में मोदी विरोधियों का जमावड़ा ajaysetia 17.Mar.2019, 22:20

आलोक तोमर की याद में आज हुए आठवें वार्षिक समारोह में मोदी सरकार विरोधियों का जमावड़ा था । पिछले साल भी मोदी सरकार निशाने पर थी । यह मंच एक खास विचारधारा का भड़ास मंच बन गया है । इस बार तो विषय मे भी कोई परहेज नहीं रखा गया था । विषय था क्या हिंदी पत्रकारिता का यह दब्बू युग है । सभी वक्ताओं का एक ही एजेंडा था कि मोदी को हिंदी पत्रकारिता के दब्बू युग का कारण बताया जाए ।

अपने सवालों के कटघरे में कांग्रेस ajaysetia 04.Mar.2019, 16:26

मोदी ने कांग्रेस की सामान्य बुद्धि पर सवाल उठाया है । ठीक ही सवाल उठाया । मोदी की यह बात सारे देश को समझ आ चुकी है कि अगर भारत के पास राफेल होता तो नतीजे कुछ और होते । पर कांग्रेस ने इस का अर्थ यह निकाला कि एयरफोर्स का आपरेशन फेल हो गया । मोदी ने आज कांग्रेस की सामान्य बुद्धि पर सवाल उठाते हुए बताया कि इस का मतलब है, पाकिस्तान के परखचे उड़ गए होते ।

मोदी की पाक नीति निर्णायक होगी ajaysetia 26.Feb.2019, 18:24

इंडिया गेट से अजय सेतिया / 

पुलवामा का चुनाव पर असर

Publsihed: 19.Feb.2019, 19:33

अजय सेतिया / पुलवामा की घटना ने चुनावी समीकरण बदल दिए हैं | नरेंद्र मोदी ने 5 साल हिन्दू एजेंडे पर कोई काम नहीं किया | हिंदुत्व के एजेंडे को अगली सरकार पर छोड़ने के लिए उन्होंने आरएसएस को मना लिया था | पर पुलवामा की घटना की सब से पहली प्रतिक्रिया यह हुई कि शिवसेना और भाजपा के मनभेद दूर हो गए | पुल

आस्था के मुद्दों पर अदालत की भूमिका ajaysetia 18.Nov.2018, 09:31

सुप्रीमकोर्ट ने संविधान में महिलाओं को मिले बराबरी के कानूनी अधिकार पर फैसला किया है | सवाल यह पैदा होता है कि क्या कोर्ट में बराबरी का हक मांगने के लिए गई महिलाओं की शनी शिगनापुर और सबरीमाला में कोई आस्था है या यह राजनीतिक लड़ाई है |

क्या सीबीआई बन चुकी है भ्रष्टाचार की गंगोत्री ajaysetia 26.Oct.2018, 13:56

सीबीआई के तीन निदेशक एपी सिंह, रंजीत सिन्हा और आलोक वर्मा एक व्यक्ति की वजह से विवादों में घिरे। और वह व्यक्ति है मीट का कारोबारी मोईन कुरैशी । कुरैशी ने हर सीबीअई निदेशक को खरीदने में महारत का जलवा दिखाया है | जिस से सवाल बनता है कि क्या सीबीअई खुद भ्रष्टाचार की गंगोत्री बन गई है | क्या सीबीआई में डेपूटेशन  पर आने की मारा मारी बहती गंगा में हाथ धोने के लिए होती है |