India Gate Se

Exclusive Articles written by Ajay Setia

सोशल मीडिया ने मोदी विरोधियों की खाट खडी की 

Publsihed: 08.Sep.2017, 21:15

सोशल मीडिया अब रेगुलर मीडिया से ज्यादा प्रभावी हो गया है | खुद को सब से ज्यादा पापुलर समझने वाले एंकर को सोशल मीडिया ने कटघरे में खडा कर रखा है | काली स्क्रीन वाला यह एंकर शुक्रवार को सफाई देता घूम रहा था | उस के न्यूज चेनेल की वेब साईट ने उस की सफाई को मेन खबर बना कर चिपकाया | बुधवार को जब प्रेस क्लब में गौरी लंकेश पेट्रिक की हत्या पर विरोध सभा थी | तो इस काली स्क्रीन वाले एंकर ने मोदी के खिलाफ जम कर भडास निकाली | हत्या बेंगलूर में हुई थी | जहां कांग्रेस की सरकार है | पर काली स्क्रीन वाले एंकर ने स्टेट गवर्नमेंट के खिलाफ एक शब्द नहीं बोला | जिस ने गौरी लंकेश पेट्रिक को कोई सुरक्षा नहीं दी

अबू सलेम पर पुर्तगाल की शर्त न होती तो उसे फांसी होती 

Publsihed: 07.Sep.2017, 21:56

छह दिसम्बर 1992 को बाबरी ढांचा टूटा था | बाबरी ढांचा जिस में भगवान राम की मूर्ती रखी थी | जिस में बाकायदा श्रद्धालु जाते थे | फुल टाईम पुजारी मौजूद था, भोग लगता था | अपन ने खुद 1986 में वहां राम लल्ला के दर्शन किए थे | अपन राज्य सरकार के बुलावे पर ही वहां गए थे | तब कांग्रेस के वीर बहादुर सिंह मुख्यमंत्री थे | कांग्रेस तब राम कृष्ण के नाम से चिढती नहीं थी | इस लिए वीर बहादुर सिंह ने तब राम जन्मभूमि पर रामायण मेला | कृष्ण जन्मभूमि पर कृष्ण मेला शुरू करवाया था | अपन रामायण मेला देखने गए थे | तब सरकारी व्यवस्था में अपन को रामजन्मभूमि भी दिखाई गई | वीपी सिंह के शासनकाल में इंद्र जीत गुप्त गृह म

रोहिंग्या मुस्लिम, गौरी लंकेश और सेक्यूलरिज्मवादी

Publsihed: 06.Sep.2017, 21:21

मेरे एक मुस्लिम मित्र ने मुझे एक वीडियो भेजा | वह चाहता था कि मैं उसे अपने सोशल सर्किल को जारी करूँ | वीडियो म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों की दशा पर तैयार किया गया था |  कुछ मित्र कभी कभी इस्राईल के खिलाफ भी वीडियो भेजते रहते हैं | अपन को इतना ही ठीक लगा कि हत्याओं की निंदा की जाए | सो अपन ने फौरन अपनी फेसबुक वाल और ट्विटर पर म्यांमार में रोहिंग्या  मुस्लिमों की हत्याओं की निंदा की | प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी चीन से सीधे म्यांमार पंहुंच गए थे | सो अपन ने मोदी से भी अपील की कि वह म्यांमार में बात करें | मोदी म्यांमार में थे,इसीलिए भारत के  मुसलमान सक्रिय हुए थे | भारत के ये

नोटबंदी पर श्वेतपत्र क्यों जारी नहीं करती सरकार 

Publsihed: 06.Sep.2017, 10:42

नोटबंदी  से कितना फायदा हुआ ,कितना नुकसान | यह खोज का विषय है | विपक्ष सवाल उठा रहा है कि मोदी के इस एक कदम से देश दस साल पीछे चला गया | किसान फसल की बुआई नहीं कर सके | फसल उत्पादन तो गिरा ही , किसान भी बर्बाद हुए | उद्धोग बंद हो गए | उत्पादन रूक गया | मजदूरों की नौकरी-दिहाड़ी से छूट्टी कर दी गई | कई दिन तक उन के घरों के चूल्हे जलने मुश्किल हो गए | औद्योगिक उत्पादन घटा, बेरोजगारी बढी | वैसे तो अप्रेल से जून तक की जीडीपी 5.7 फीसदी बताई गई है | पर वित्तमंत्रालय की स्टेंडिंग कमेटी के चेयरमैन वीरप्पा मोयली इसे भी सही नहीं मानते | वीरप्पा मोईली ने कहा है कि सरकार सच छुपा रही है | सच यह है कि

देश में खुद की जमीन खिसकाने वाले काम,बाहर कामयाबी 

Publsihed: 04.Sep.2017, 23:59

नरेंद्र मोदी को एक बड़ी सफलता मिली है | अपन मंत्रिमंडल विस्तार की बात नहीं कर रहे | उसे अपन कोई सफलता नहीं मानते | वह असफलता की ओर बढ़ने का पहला कदम है | नौ नए मंत्रियों में से चार ब्यूरोक्रेट का होना भाजपा कैडर का मनोबल तोड़ गया है | अपनी कई सांसदों से बात हुई | चार चार बार से जीत रहे सांसदों से बात हुई | जिन का पब्लिक लाईफ में अच्छा अनुभव है , उन से बात हुई | करीब करीब सभी बेहद गुस्से में हैं | लगभग सभी ने छूटते ही कहा -"हम मूर्ख हैं क्या !" अपन तो शुरू से ही मान रहे थे कि 2018 आते आते पार्टी में आक्रोश बढेगा | जिस की शुरुआत 3 सितम्बर के मंत्रिमंडल फेरबदल से हो गई है | उमा भारती ने तेवर दिखा

परफोर्मेंस नहीं दिखाने वाले मंत्रियों से लिया गया इस्तीफा 

Publsihed: 01.Sep.2017, 21:28

जब नजमा हेपतुल्ला का मंत्री पद से इस्तीफा हुआ | कल राज मिश्र का भी तभी हो जाना था | पर उत्तरप्रदेश विधानसभा के चुनाव थे | चुनाव से ठीक पहले कलराज मिश्र को हटाना ब्राह्मणों को नाराज करने का रिस्क था | नरेंद्र मोदी यह रिस्क नहीं ले सकते थे | इसलिए कलराज मिश्र तब बच गए थे | अब चुनाव हो चुके हैं | लोकसभा चुनाव अगर दिसम्बर 2018 में भी हो | तो भी सवा-डेढ़ साल में नया ब्राह्मण नेतृत्व उभार लिया जाएगा | कलराज मिश्र के अलावा मोदी मंत्रिमंडल से दूसरे ब्राह्मण महेंद्र पांडे हटाए गए हैं | जिन्हें प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है | कल्रराज मिश्र को भी राज्यपाल बना दिया जाएगा | यानि यूपी के ब्राह्मण

भाजपा और सरकार में उठापठक का मौसम 

Publsihed: 01.Sep.2017, 00:22

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह गुरूवार को खासे सक्रिय थे | उन ने अपने घर पर मंत्रियों के कोर ग्रुप की बैठक बुलाई | यह कोर ग्रुप संगठन से फीडबैक लेता है और सरकार का फीड बैक देता है | फीड बैक के बाद सरकारी कामों का एजेंडा बनता है | इस तरह एक तरह से अमित शाह भाजपा के होम मिनिस्टर की भूमिका में हैं | पर अब तीन मुद्दे मुख्य एजेंडे पर हैं | पहला केन्द्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल | जो मोदी के ब्रिक्स बैठक में जाने से पहले हो सकता है | तो उस के लिए एक ही दिन बचा है | तीन सितम्बर से तो ब्रिक्स की मीटिंग शुरू है | राष्ट्रपति तिरुपति में हैं | वह शनिवार को पहुंच जाएंगे | सो शनिवार दोपहर को फेरबद

परिवारवाद और वीरभद्र सिंह के तेवर 

Publsihed: 30.Aug.2017, 21:40

भाजपा जब 75 साल वालों को रिटायर कर रही है | तब पिछले साल 74 साल के अमरेन्द्र सिंह ने अपने बूते कांग्रेस को पूरी एसेम्बली जीता दी थी | उनने सोनिया और राहुल के नाक में दम कर के पंजाब का नेतृत्व सम्भाला था | अब वही तरीका 83 साल के मुख्यमंत्री वीरभद्रसिंह अपना रहे हैं | ऐसा नहीं है कि 83 साल के हो गए हैं , तो चुनाव का नेतृत्व नहीं कर सकते | पांच साल पहले प्रकाश सिंह बादल 84 साल की उम्र में अकाली दल को दुबारा सत्ता में ले आए थे | हिमाचल विधानसभा के चुनाव जनवरी में होने हैं | विधानसभा का आख़िरी सत्र इस महीने हो गया | वैसे मुख्यमंत्री चाहें , तो सत्र बुला सकते हैं | उस पर कोई रोक नहीं | पर मोटे तौर

मदरसों पर योगी की टेढ़ी नजर या सुधार की बयार 

Publsihed: 29.Aug.2017, 23:43

यूपी की योगी सरकार मुसलमानों के मुद्दों को लेकर विवादों में रही है | हर महीने मदरसों को लेकर कुछ न कुछ हो जाता है | मुस्लिम समाज नहीं चाहता कि उन के मामलों में दखल हो | संविधान के अनुच्छेद 21 को ढाल बना कर मदरसे सरकारी दखल से बचे रहे | मुस्लिम तुष्टिकरण में सरकारी पैसा तो मिलता रहा | पर एजुकेशन पर सरकारी कंट्रोल तो दूर की बात | एजुकेशन के स्तर की भी किसी ने फ़िक्र नहीं की | तुष्टिकरण वाली पार्टियों का एक ही मन्त्र था -" पैसा बांटो, वोट लो | एजुकेशन कैसी हो, हमें क्या लेना देना |" नतीजतन ज्यादातर मदरसों का आधुनिकरण नहीं हुआ | खामियाजा गरीब मुसलमानों को भुगतना पडा | गरीब मुसलमानों के बच्चे ही

अब बाबा की नामर्द सेना पर हरियाणा को देनी है रिपोर्ट 

Publsihed: 28.Aug.2017, 19:44

न राम न रहीम | एक अय्याश इंसान | जिस ने राम को भी बदनाम किया | रहीम को भी बदनाम किया | बाबा के पवित्र नाम को भी इनकार किया | अब वह दो बलात्कारों के जुर्म में जेल में है | पता नहीं बलात्कार की शिकार कितनी ही बच्चियों को फैसला सुन कर खुशी हुई होगी | दस साल कैद की सजा हुई, तो जज के सामने गिडगिडाने लगा | पता नहीं इस कुकर्मी ने और कितने कुकर्म किए हैं | सीरियल कीलर भी है बाबा गुरमीत सिंह | अपने हरम की सुरक्षा के लिए जैसे मुगल बादशाह नामर्दों की फ़ौज बनाते थे | वैसी नामर्दों की फ़ौज भी बना रखी है इस कुकर्मी ने | आज अपन इन दोनों कुकर्मों पर से कुछ पर्दा हटाएंगे | सब से पहले पत्रकार छत्रपति की हत्या