India Gate Se

Exclusive Articles written by Ajay Setia

राहुल गांधी की दोहरी नागरिकता का सवाल

Publsihed: 31.Oct.2017, 09:20

 अजय सेतिया / सुब्रहमन्यम स्वामी का भी कोई जवाब नहीं | राम जेठमलानी से कम सनकी नहीं हैं | दोनों जिस के पीछे पड जाएं , हाथ धो कर पड जाते हैं | जेठमलानी और स्वामी दोनों ही सत्तर के दशक में अटल बिहारी वाजपेयी के करीबी थे | स्वामी कहते हैं कि मोरारजी देसाई उन्हें अपने मंत्रिमंडल में लेना चाहते थे | पर वाजपेयी ने उन्हें मंत्री नहीं बनने दिया | क्योंकि जनता पार्टी बनने से पहले वह जनसंघ में थे | इस लिए जनसंघ वाले हामी भरते तभी वह मंत्री बन सकते थे | इस लिए स्वामी ने जनसंघ से किनारा कर लिया | 1980 में जब पूर्व जन संघियों ने भाजपा बनाई , तो स्वामी उस में नहीं गए | वाजपेयी मुम्बई में अध्यक्ष चुन

शिवसेना का दावा है मोदी लहर फीकी पडी 

Publsihed: 28.Oct.2017, 00:11

अजय सेतिया / अपन ने शुक्रवार के कालम में राज ठाकरे का जिक्र किया था | जिन ने भविष्यवाणी की है कि गुजरात चुनाव के बाद विपक्ष मजबूत होगा | अपन को शक है कि राज ठाकरे कांग्रेस के साथ जाने की सोच रहे हैं | पर अपना मानना है कि विपक्ष 182 में से 80 सीटें भी ले जाए तो विपक्ष जरुर मजबूत होगा | वैसे तो शिव सेना भी लगातार भाजपा पर प्रहार कर रही है | कभी कभी सीधे मोदी पर भी हल्का फुल्का प्रहार होता है | पर शुक्रवार को शिव सेना के सांसद संजय राउत ने आमने सामने की लड़ाई कर दी है | संजय राउत ने भाजपा का उपहास करते हुए कहा - "'मोदी लहर अब फीकी पड़ गई है...|" सिर्फ इतना नहीं अलबत्ता संजय ने

तो क्या गुजरात चुनाव के बाद विपक्ष मजबूत होगा

Publsihed: 26.Oct.2017, 20:45

अजय सेतिया / लानत-मलानत के बाद चुनाव आयोग ने गुजरात में चुनावों का एलान कर दिया | गुजरात में 9 और 14 दिसम्बर को चुनाव होंगे | वैसे गुजरात में चुनाव नहीं हो रहा | गुजरात में महाभारत हो रहा है | अभी तो यह तय हो रहा है कौरव कौन है, पांडव कौन | यह निर्भर करेगा कि कौन किस के साथ जाएगा | चुनाव को पहली बार जातियां प्रभावित करेंगी | ओबीसी के नेता के रूप में उभरे अल्पेश ठाकोर कांग्रेस के साथ चले गए हैं | पाटीदारों के नेता के रूप में उभरे हार्दिक पटेल अभी दुविधा में हैं | कांग्रेस ने उन्हें न्योता दिया हुआ है | पर वह महाभारत के योद्धा हो सकते है,  चुनाव नहीं लड़ सकते | चुनाव लड़ने

दिया जब रंज बुत्तो ने, तो खुदा याद आया 

Publsihed: 24.Oct.2017, 22:51

अजय सेतिया / गुजरात के चुनाव ने मोदी सरकार की आँखें खोल दी हैं | अब तक सरकार सपनों में थी | यूपी,उत्तराखंड ने चुनाव जितना आसान बना दिया था | गुजरात ने उतना ही मुश्किल बना दिया है | सरकार अब विकास का माडल ले कर आई है | या कहें नया सपना ले कर आई है | हालांकि जीएसटी पर अभी भी असमंजस बरकरार है | सरकार जीएसटी से टेक्स वसूली को ही सफलता मान रही है | पर सफलता तब होगी , जब गुजरात में 150 सीटें जीतने का दावा पूरा हो | अमित शाह ने यही टारगेट तय किया है | पर चुनावों का एलान नहीं हो रहा | सरकार देश की अर्थव्यवस्था पर चौतरफा हमला झेल रही है | सोशल मीडिया ने हवा बना दी है कि अर्थव्यवस्था डगमगा गई है | रा

देश के मिजाज का थर्मामीटर बन गया है गुजरात

Publsihed: 23.Oct.2017, 22:58

अजय सेतिया / गुजरात का चुनाव गले की फांस बन गया है | मोदी के पीएम बनते ही भाजपा बदल चुकी है | लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा की चौकड़ी दिखी थी | जब नरेंद्र मोदी , राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और अरुण जेटली इक्कठे बैठे थे | शायद वह तस्वीर सामूहिक नेतृत्व की आख़िरी तस्वीर थी | अपन ने 30 साल तक भाजपा नेताओं से सामूहिक नेतृत्व का राग सुना था | पर अब भाजपा में कोई सामूहिक नेतृत्व की बात जुमले  के तौर पर भी नहीं कहता | अब अगर भाजपा बिहार में हारती है तो रणनीति की विफलता का ठीकरा मोदी के सिर फूटता है | दिल्ली हारती है, तो भी मोदी के सिर फूटता है | सामूहिक जिम्मेदारी अब नहीं होती | क्योंकि यूपी,उत्तराखंड

गौरी लंकेश की हत्या पर वामपंथी चुप क्यों 

Publsihed: 18.Oct.2017, 00:34

अजय सेतिया / कम्यूनिस्ट एक्टिविस्ट ,जो पत्रकारिता में भी सक्रिय थी | अपन गौरी लंकेश की बात कर रहे हैं | जिस की हत्या पर वामपंथी पत्रकारों ने हिन्दुओं के खिलाफ सारे देश में बावेला खडा किया था | प्रेस क्लब को वामपंथियों का अड्डा बना दिया गया था | जिस पर राहुल गांधी ने संघ परिवार पर आरोप लगा दिया था | बेंगलूर के गृह मंत्री तक ने कहा था कि उन्हें पता है किस ने हत्या की | पांच सितम्बर को हत्या हुई थी |  अब सवा महीना बीत जाने के बाद भी कर्नाटक सरकार को कोई सुराग नहीं मिला | अब वह दावा नहीं कर रही कि उसे पता है किस ने मारा | और वो काली स्क्रीन वाला वामपंथी पत्रकार भी कोई सुराग नहीं निकाल

यौन शोषण से आज़ादी की लम्बी लड़ाई की शुरुआत 

Publsihed: 16.Oct.2017, 21:23

अजय सेतिया / नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने इस बार कमाल किया | बाल यौन शोषण के खिलाफ उन का अभियान रंग लाने लगा है | उन की भारत यात्रा के दौरान अनेक लडकियाँ सामने आई हैं | जिन ने अपने साथ हुए बाल यौन शोषण का खुलासा किया | सोमवार को राष्ट्रपति भवन में यात्रा का समापन समारोह था | खुद राष्ट्रपति समारोह में पूरा समय बैठे | इसी फंक्शन में दो बच्चिया राष्ट्रपति के सामने पेश हुई | इन में से एक बच्ची ने तो अपने बचपन की ऐसे व्यथा सुनाई कि राष्ट्रपति की आँखें भीग गई | कैसे उस के मां बाप ही उस का यौन शोषण करवाते थे | किस प्रकार उसे रेस्क्यू कराया गया | कैलाश सत्यार्थी की

रोहिंग्या बसाए गए तो हिन्दू कंहा पलायन करेंगे 

Publsihed: 15.Oct.2017, 00:47

अजय सेतिया / घुसपैठिए रोहिंग्या मुसलमान आतंकवादी है तो कार्रवाई होनी चाहिए | पर  निर्दोष और बच्चे आदि परेशान नही होने चाहिए | बात शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कही | अलबत्ता बीच का रास्ता अपनाया है | कोर्ट ने जहां एक तरफ कहा कि ये मानवीय समस्या है | पर दुसरे ही सांस कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा, आर्थिक और लेबर व भौगोलिक पहलू भी महत्वपूर्ण है | मानवीय पहलू के आधार पर याचिका दायर की गई है | राष्ट्रीय सुरक्षा, आर्थिक और लेबर व भौगोलिक पहलू की दलील सरकार ने दी है | यानि तू भी सही, वह भी सही | ऐसे लगा जैसे सुप्रीमकोर्ट भी घुसपैठियों के मुद्दे पर राजनीति से प्रभावित है | इस लिए संतुलन बनाने की को

हिम में सीएम उम्मीन्द्वार बताने की हालत में नहीं भाजपा 

Publsihed: 12.Oct.2017, 23:55

अजय सेतिया / हिमाचल प्रदेश के चुनावों की डुगडुगी बज गई | नौ नवम्बर को चुनाव होगा | गुजरात की डुगडुगी बजनी अभी बाकी है | गुजरात विधानसभा का कार्यकाल 20 दिसम्बर तक है | तो उसे ग्रेस मिल गई | वैसे उस ग्रेस की जरुरत नहीं थी | बिना कहने कहलाने के ग्रेस मिली भी नहीं होगी | कहाँ  लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ करवाने की बात | और कहाँ दो विधानसभाओं के चुनावों का एलान भी एक साथ नहीं | उस दिन चुनाव आयोग ने क्या सोच कर कह दिया था कि देश में एक साथ चुनाव हो सकते हैं | हिमाचल और गुजरात विधानसभाओं के कार्यकाल में तो एक महीने का भी अंतर नहीं | लोकसभा और कई विधानसभाओं का तो तीन-

गुजरात में जोर तो पूरा लगा रहे हैं राहुल गांधी 

Publsihed: 12.Oct.2017, 13:00

अजय सेतिया / पता नहीं क्यों राहुल गांधी गुजरात पर ज्यादा ही जोर लगाए हुए है | हालांकि चुनाव तो गुजरात के साथ हिमाचल में भी होगा | हिमाचल की जिम्मेदारी आखिरकार राहुल गांधी ने वीरभद्र सिंह को दे दी | वीर भद्र सिंह ने चुनाव से पहले ठीक वही किया, जो पंजाब में अमरेन्द्र सिंह ने किया था | सोनिया गांधी से मिल कर धमकी दे दी थी | उन ने कह दिया था कि अगर उन्हें कमान न दी तो वह न चुनाव लड़ेंगे, न प्रचार करेंगे | यही धमकी गुजरात में शंकर सिंह वाघेला ने भी दी थी | पर सोनिया-राहुल ने वाघेला की बजाए अहमद पटेल की मानी | कांग्रेस आलाकमान ने साफ़ संकेत दे दिया कि उन्हें फ्री हैण्ड नहीं मिलेगा | वाघेला की भाजपा