India Gate Se

Published: 14.Sep.2019, 14:03

अजय सेतिया / भारतीय जनता पार्टी अपने तीन एजेंडों के लिए जानी जाती है | इन तीन एजेंडों में से एक अनुच्छेद 370 की समाप्ति था , जिसे संविधान में जोड़ते समय ही संविधान सभा में वायदा किया गया था कि यह अस्थाई है | भाजपा का दूसरा एजेंडे समान नागरिक संहिता का जिक्र तो संविधान के नीति निर्देश सिद्धांतों में भी है , जिस में वायदा किया गया है कि सरकार इसे लागू करने का प्रयास करेगी | सुप्रीमकोर्ट कई बार सरकार को संविधान के निति निर्देश सिद्धांतों की याद दिला चुका है , लेकिन पूर्ववर्ती सरकारों ने समान नागरिक संहिता को अल्पसंख्यक और शरीयत विरोधी बता कर अछूत मुद्दा बनाया हुआ है | जनसंघ के जमाने तक मौजूदा भाजपा का तीसरा बड़ा एजेंडा गौरक्षा के लिए अखिल भारतीय क़ानून बनाना था , जो संविधान के नीति निर्देश सिद्धांतों का हिस्सा है | भाजपा के इन तीनों एजेंडों का संवैधानिक आधार था , लेकिन गैर भाजपा दलों ने इन्हें विवादास्पद मुद्दे बता कर भाजपा को अछूत बनाए रखा | ये तीनों मुद्दे भाजपा को सत्ता तक पहुँचाने में बाधक बने रहे , 1996 में जब अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में भाजपा की पहली सरकार बनी थी , तो विश्व…

और पढ़ें →
Published: 12.Sep.2019, 16:48

अजय सेतिया / मोंत्गू-चेम्सफोर्ड कमेटी के भारतीय शासन प्रणाली में बदलाव के सुझावों के अनुरूप 1919 में “कानुन्सिल आफ स्टेट “ का गठन किया गया था | तब “कानुन्सिल आफ स्टेट” के 60 सदस्य थे, जिन में से 34 भारतीय सम्भ्रान्त परिवारों से चुने जाते थे | जब भारत का संविधान बन रहा था तो इस सदन की जरूरत पर बहस हुई थी | संविधान सभा के कुछ सदस्यों का मानना था कि राज्यसभा की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि यह बिला-वजह कानूनों के निर्माण में विलम्ब पैदा करेगी , लेकिन इस दलील को नहीं माना गया | बाद में राज्यसभा के पहले चेयरमैन के नाते डाक्टर सर्वपल्ली राधा कृष्णन ने एक बार कहा था कि आम धारणा यह कि यह सदन न सरकार बना सकता है, न गिरा सकता है , इसलिए यह एक दिखावटी शानदार सदन है , लेकिन उन का मानना है कि कानूनों के निर्माण यह सदन महत्वपूर्ण भूमिका सकता है , यह सदन न सिर्फ विधाई है , बल्कि विचारशील बहस करने वाला सदन भी है | लब्बोलुबाब यह था कि यह सदन के सदस्यों पर निर्भर करेगा कि वह विचारशील भूमिका निभा कर कानूनों के निर्माण में कैसी और कितनी भूमिका निभाते हैं | 

अपना मानना है कि राजनीतिक दलों में…

और पढ़ें →
Published: 11.Sep.2019, 22:43

अजय सेतिया / कश्मीर की आज़ादी और कश्मीरियों की व्यक्तिगत आज़ादी दोनों अलग अलग बातें हैं | कश्मीर के मौजूदा हालात में कश्मीरियों की व्यक्तिगत आज़ादी एक मसला बना हुआ है | अपन जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह के इस जुमले से सहमत नहीं हैं कि आज़ादी से ज्यादा महत्वपूर्ण जिंदगी है | व्यक्तिगत आज़ादी के बारे में जनता क्या सोचती है , उस का एक उदाहरण आपातकाल के बाद हुए लोकसभा चुनाव के नतीजे हैं | आपातकाल में लोगों की व्यक्तिगत आज़ादी का हनन करने वाली इंदिरा गांधी को करारी हार का मुहं देखना पड़ा था | जब से केंद्र सरकार ने कश्मीर को विशेषाधिकारों से वंचित किया है , वहां आपातकाल जैसी स्थिति है , मोबाइल फोन और इंटरनेट बंद हैं , जिस की आलोचना बढ़ रही है | दिलबाग सिंह ने एक इंटरव्यू में कहा है कि जम्मू कश्मीर में पाबंदियां लगाना ही एक मात्र विकल्प था , भले ही यह बहुत कठोर लगता हो , लेकिन क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए उपयोगी है | यहाँ तक उन की बात से सहमत हुआ जा सकता है , लेकिन उन के इस जुमले से हर कोई सहमत नहीं होगा कि आज़ादी से महत्वपूर्ण जिंदगी है |

इस में कोई शक नहीं कि 370 औ…

और पढ़ें →
Published: 09.Sep.2019, 13:53

अजय सेतिया / पाकिस्तानी मीडिया में क्या चल रहा है , इसे ले कर अपनी उत्सुकता हमेशा से बनी रही है | अपन गाहे-ब-गाहे इंटरनेट पर पाकिस्तानी वेबसाईटों और टीवी चेनलों की डिबेट को खंगालते रहे हैं | जब से भारत ने कश्मीर से 370 और 35ए हटाई है , तब से तो अपन पाकिस्तानी मीडिया में चल रही खबरों को बारीकी से देख रहे हैं | दो दिन पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने कहा था कि कश्मीर को ले कर जैसी एकता पाकिस्तान में है , वैसी भारत में नहीं है | लगातार कांग्रेस पार्टी और उस के नेताओं के बयानों को इस्तेमाल कर रहे पाकिस्तान ने पहली बार कश्मीर को ले कर भारत में मतभिन्नता की बात कही है | अपने बयान में शाह महमूद कुरैशी ने संसद में 370 हटाने का विरोध करने वाली कांग्रेस , कम्यूनिस्ट और समाजवादी पार्टी का जिक्र भी किया | कुरैशी के बयान के बाद इन तीनों पार्टियों को अपनी कश्मीर नीति पर पुनर्विचार करना चाहिए |

शाह मोहम्मद कुरैशी का यह बयान सौ फीसदी सही है कि पाकिस्तान के राजनीतिक दलों में कश्मीर को ले कर एकता है , लेकिन दूसरी तरफ पाकिस्तान के आवाम में कश्मीर को लेकर उत्साह खत्म…

और पढ़ें →
Published: 07.Sep.2019, 17:37

 अजय सेतिया / आप नरेंद्र मोदी के लाख विरोधी हो सकते हैं , लेकिन भारत की राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत हैं | शुक्रवार की आधी रात के बाद निश्चित समय पर चंद्रयान-2' का लैंडर ‘विक्रम' चांद पर तो उतर गया था , लेकिन चाँद पर उतरते ही  जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया | कोई अन्य प्रधानमंत्री होता , तो शायद इस घटना को अनहोनी समझ कर पी जाता , वह समझ ही नहीं पाता कि उब वैज्ञानिकों के दिल पर क्या बीत रही होगी | गहरा झटका नरेंद्र मोदी को भी लगा था , इसलिए निराशा के उस क्षण में वह उठ कर चले गए थे | लेकिन वैज्ञानिकों के उस दर्द को नरेंद्र मोदी ने जैसे समझा , तो सुबह आठ बजे वह फिर इसरो सेंटर वैज्ञानिकों के बीच पहुंचे और उन के सामने ही राष्ट्र को सम्बोधित किया | उन की तरफ से दिखाए गए इस आत्मीयता ने न सिर्फ वैज्ञानिकों , अलबत्ता भारत से प्यार करने वाले हर भारतीय का दिल जीत लिया | जहां उन्होंने वैज्ञानिकों का न सिर्फ हौसला बढ़ाया बल्कि उन्होंने कहा कि पूरा देश उनके  साथ है |

वैज्ञानिकों और राष्ट्र को सम्बोधित कर के मोदी जब बेंगलुरु के स्पेस सेंटर से बाहर निकल रहे थे तो इसरो…

और पढ़ें →
Published: 05.Sep.2019, 18:48

अजय सेतिया / अपन ने 370 पर कांग्रेस में मतभेदों को उभरते देखा है | डा. कर्ण सिंह , ज्योतिरादित्य , भूपेन्द्र सिंह हुड्डा , जनार्दन द्विवेदी ने 370 हटाए जाने का खुल कर समर्थन किया | कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पता नहीं इसे समझा या नहीं , लेकिन यह गुलामनबी आज़ाद और अहमद पटेल के खिलाफ आक्रोश था , जिन के प्रभाव में कांग्रेस सिर्फ मुसलमानों की पार्टी बनती जा रही थी | कांग्रेस का हिन्दू लम्बे समय से घुटन महसूस कर रहा है , उसे सेक्यूलरिज्म की बनावटी दलीलें अब समझ नहीं आ रही क्योंकि आम हिन्दू उन से सवाल पूछने लगे हैं | कांग्रेस ने आधिकारिक तौर पर अभी भी अपनी स्थिति साफ़ नहीं की है , उस के मुस्लिम नेता अभी भी 370 हटाए जाने का विरोध करने वाली वामपंथी जमातों के साथ खड़े हैं , जो मानवाधिकारों के नाम पर कश्मीरी मुसलमानों को उकसा रहे हैं और पाकिस्तान को मसाला दे रहे हैं | राहुल गांधी भी उन्हीं के प्रभाव में बयानबाजी करते रहते हैं , इसलिए कांग्रेस के हिन्दू नेता 370 हटाने के तरीके पर सवाल खड़ा कर के खुद को भाजपा से अलग दिखाने की कोशिश करते हैं | इस जमात में अब शशि थरूर भी शामिल हो गए हैं…

और पढ़ें →
Published: 04.Sep.2019, 18:33

अजय सेतिया / भारत में चारों तरफ से घुसपैठ होती रहती है , ताजा घुसपैठ रोहिंग्या मुसलमानों की है , जो बर्मा से हुई है | इस घुसपैठ की मुख्य वजह पडौसी देशों की खराब आर्थिक दशा या आज़ादी से जीने का हक नहीं मिलना है | जो लोग मानवता की दृष्टी से उन सभी को भारत में शरण देने की हिमायत करते हैं , वही लोग तसलीमा नसरीन को शरण दिए जाने के खिलाफ हिंसक हो जाते हैं | जिस बंगाल में कम्युनिस्ट राज के समय लाखों बांग्लादेशियों को अवैध रूप से बसाया गया , उसी वामपंथी बंगाल सरकार ने तसलीमा नसरीन को आधी रात को बंगाल से निकाल बाहर किया था | घुसपैठियों को बसाने के मापदंड अलग अलग रहे हैं , अगर वे मुसलमान हैं और भविष्य में उन का वोट बैंक हैं तो उन्हें किसी न किसी तरह फर्जी पहचान पत्र दे कर आधार कार्ड तक बनवा दिया गया है , कश्मीर से एक पत्रकार ने अपन को बताया कि 1947 से बसे हिन्दुओं को तो भारतीय नागरिकता नहीं मिली , लेकिन रोहिंग्या मुसलमानों के आधार कार्ड बन गए हैं |

सालों साल की मेहनत से बना असम का एनआरसी यानी नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजन अनेक खामियों से भरा है | पाकिस्तान का हिस्सा रहे मौजूदा बांग्ला…

और पढ़ें →
Published: 03.Sep.2019, 18:31

अजय सेतिया / अजीत जोगी का पूरा कुनबा भयंकर मुश्किल में फंसा है |  खुद जोगी पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी है और बेटे अमित जोगी को गिरफ्तार कर लिया गया है | अजीत जोगी देश में चल रही कांग्रेस संस्कृति का जीता-जागता सबूत है , जिसे नरेंद्र मोदी ने खत्म करने का बीड़ा उठाया हुआ है , लेकिन छतीसगढ़ में कांग्रेस ही मोदी की मदद कर रही है | जो भाजपा की रमन सिंह सरकार 15 साल नहीं कर सकी , उसे भूपेश बघेल सरकार ने 15 महीनों से पहले ही कर के दिखाना शुरू कर दिया है |

अजीत जोगी प्रतिभा के धनी हैं , वह इंजीनियरिंग ग्रेजुएट थे , पहले आईपीएस बने फिर आईएएस बने और बाद में राजीव गांधी के आशीर्वाद से कलक्ट्री छोड़ राजनीति में आकर मुख्यमंत्री की कुर्सी तक जा पहुंचे | वह जन्म से “अनुसूचित जाति से कन्वर्ट ईसाई” हैं , जिन्हें संविधान के मुताबिक़ किसी तरह का कोई आरक्षण नहीं मिलता | उन्होंने अपनी “ओबीसी से कन्वर्ट ईसाई” डाक्टर पत्नी रेनू जोगी को भी विधायक बनवाया और “अमेरिका में जन्मे” अपने बेटे अमित जोगी को भी विधायक बनवाया | पर हुआ सब कुछ फ्राड | हालांकि वह खुद को ईसाई तो कभी नहीं बताते , पर कभी सतन…

और पढ़ें →
Published: 02.Sep.2019, 18:38

अजय सेतिया / मोदी सरकार की ओर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने बाद कांग्रेस में हाई कमान के खिलाफ उठा बवंडर अभी थमा नही है कि युवा नेता जतिन प्रसाद ने दकियानूसी विचारों वाली अपनी पार्टी के लिए नई मुसीबत खडी कर दी है | उन्होंने नरेंद्र मोदी के स्वतन्त्रता दिवस पर लालकिले से दिए गए भाषण में जनसंख्या नियन्त्रण वाले विषय का समर्थन किया है | नरेंद्र मोदी ने देश की बढती जनसंख्या को सभी समस्याओं की जड बताते हुए उसे रोकने के उपाओं की बात उठाई थी | असल में नरेंद्र मोदी के भाषण का यह अंश भाजपा के युवा सांसद राकेश सिन्हा के प्राईवेट मेंबर बिल से प्रभावित था | राकेश सिंहा ने 14 जुलाई को राज्यसभा में यह बिल पेश किया है |

कांग्रेस का दकियानूसी नेतृत्व पार्टी को अल्पसंख्यकवाद पर ही बनाए रखने के पक्ष में है , जबकि कांग्रेस की इन नीतियों के खिलाफ देश में आक्रोश के कारण ही हिन्दू नवजागरण ने उसे लोकसभा में विपक्ष के दर्जे लायक भी नहीं छोड़ा है | मोदी सरकार धीरे धीरे उन सभी मुद्दों पर आगे बढ़ रही है , जिन के कारण उसे इतना बड़ा जनसमर्थन मिला है और भाजपा की सदयता संख्या 18 करोड़ को पार कर गई है | कां…

और पढ़ें →
Published: 01.Sep.2019, 18:44

अजय सेतिया / पूरी दुनिया में जहां जहां मुस्लिम राज है , वहां वहां कम्युनिस्ट पार्टी को कोई घुसने नहीं देता | पाकिस्तान में तो कम्युनिस्ट नेताओं पर देशद्रोह के आरोप में उम्र कैद तक हुई , उन में से एक ने तो बाद में किसी तरह माफी मांग कर भारत में आ कर पनाह ली थी | इसी तरह जहां जहां कम्यूनिस्ट राज है , वहां वहां मुसलमानों को धार्मिक आज़ादी नहीं है | पर भारत में कम्युनिस्ट मुसलमानों को उन का सब से बड़ा हितैषी बताने में कामयाब हैं | उन्हीं की छत्रछाया में अलगाववादी जेएनयू में कश्मीर की आज़ादी और भारत के टुकड़े करने के नारे लगाने में कामयाब हो जाते हैं | जेएनयू के छुटके कम्युनिस्ट कंहैया और शाहला रशीद से ले कर अजय भवन की पूरी कम्युनिस्ट पार्टी कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारतीय मुसलमानों के पैरवीकार बने घूम रहे हैं । वे तीन तलाक का भी समर्थन करते हैं और 370 खत्म हो तो उसे भी मुसलमानों से विश्वासघात बताते हैं । पर भारतीय कम्यूनिस्टों के अब्बा हुजूर चीन ने लाखों मुसलमानों को शिन जियांग जिले में कैंपों में नजर बंद कर रखा है । दो सौ से ज्यादा मुस्लिम व्यापारियों की पत्नियां गायब हैं । उनको शै…

और पढ़ें →