India Gate Se

Published: 07.Jul.2018, 18:20

 

अजय सेतिया / अपन विजुअल मीडिया में काम कर चुके हैं | पर जिन्दगी का ज्यादातर हिस्सा प्रिंट मीडिया में गुजरा | वह भी राजनीतिक रिपोर्टिंग करते हुए | प्रिंट मीडिया में काम करने की बात ही कुछ और थी | ढाई बजे भाजपा दफ्तर में जाते थे , वहां से कांग्रेस दफ्तर , फिर सीपीएम के दफ्तर | सब निपटा कर शाम को बड़े नेताओं की दहलीज पर | नेता भी तब चाय पकौड़ों के साथ अन्तरंग बातें करते थे | राजनीतिक दलों का आफ दि रिकार्ड बहुत कुछ मिलता था | दलों के भीतर की टांग खिंचाई से लेकर उठापटक की रणनीति तक सब कुछ | यह उन दिनों की बात है जब भाजपा में गोबिन्दाचार्य और प्रमोद महाजन हुआ करते थे | भाजपा दफ्तर के बगल में 9 अशोका रोड पर अरुण जेटली की महफ़िल सजा करती थी | जहां भांति-भांति की चाय का स्वाद मिला | कांग्रेस में चंदूलाल चंद्राकर और वीएन गाडगिल का आफ रिकार्ड हुआ करता था | चंद्राकर का हर जवाब आँख के इशारे से मिलता था | तो गाडगिल वह सवाल सुनते ही नहीं थे, जिस का जवाब न देना हो | सीता राम केसरी , अर्जुन सिंह और विजय भास्कर रेड्डी जैसे दिग्गज भी अपने घरों पर आफ रिकार्ड बात किया करते थे | वह ज़मा…

और पढ़ें →
Published: 05.Jul.2018, 16:51

अजय सेतिया / रांची में बुधवार को बच्चों की बिक्री का भंडाफोड़ हुआ । यह विस्फोटक खुलासा तब हुआ , जब मंगलवार को एक परिवार ने जिला बाल कल्याण समिति में जा कर दरख्वास्त दी | इस परिवार का कहना था कि एक अस्पताल ने उन से सवा लाख रूपए ले कर एक बच्चा दिया था | दो महीने से वह बच्चा उन के पास था | अस्पताल में किसी औरत को बच्चा हुआ था । वह पाल नहीं सकती थी । उन से अस्पताल की फीस के नाम पर सवा लाख लिया और बच्चा उन्हें सौंप दिया | पर अब उस बच्चे की असली मां ने धोखे से बातचीत के लिए बुलाया और बच्चा ले लिया | बच्चा उन्हें वापस दिलाया जाए | बाल कल्याण समिति ने उन का बयान रिकार्ड किया और पुलिस को सौंप दिया |

बाल कल्याण समिति से पुलिस को यह खबर गुरूवार को मिली | उस समय रांची के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में राज्य भर के डीएसपी जेजे एक्ट की पेचीदगियां समझ रहे थे | संयोग से मैं ही उन्हें पेचीदगियां समझा रहा था | जैसे ही बच्चों की खरीद फरोख्त और गैर कानूनी गौद लेने पर सजा की धाराओं का चेप्टर खत्म हुआ रांची के डीएसपी फोन पर चिपक गए | अपन को यह बर्दाश्त नहीं हुआ और अपन ने बोलना रोक दिया | डीएसपी न…

और पढ़ें →
Published: 02.Jul.2018, 22:29

अजय सेतिया / सोहराबुद्दीन और इशरत के एनकाउंटरों के ह्ल्लेबाज अब यूपी पहुंच गए हैं | गुजरात की मुठभेड़ों में मारे गए आतंकियों के हल्ले ने नरेंद्र मोदी का फायदा ही किया | आतंकवादियों के समर्थक बुद्धिजीवियों ने जितना हल्ला मचाया | मोदी का वोट बैंक उतना ही बढ़ा | वह पूर्ण बहुमत के साथ देश के प्रधानमंत्री बन बैठे | वामपंथी बुद्धिजीवियों के चक्कर में कांग्रेस ने मुस्लिम परस्ती कर के अपना सत्यानाश कर लिया | सोहराबुद्दीन और इशरत जहां के एनकाउंटर फर्जी साबित नहीं हुए | आईपीस अधिकारी वंजारा को कई साल जेल में रहना पडा | आखिरकार वंजारा के साथ गुजरात के पूर्व पुलिस अधिकारी एन के अमीन को भी सीबीआई अदालत ने बरी किया |

इस बीच आतंकवादियों के समर्थक ह्ल्लेबाज मध्यप्रदेश भी पहुंचे हुए थे | जब 2016 में भोपाल जेल से भागने के बाद सीमी के आठ आतंकवादी मुठभेड़ में मारे गए थे | उन मुठभेड़ों पर भी भारत तोड़ो गैंग ने हल्ला मचाया | कांग्रेस ने उन ह्ल्लेबाजों का साथ दिया था | सिमी के आठ आतंकी 31 अक्टूबर 2016 को भोपाल जेल से भागे थे | कुछ घंटो के भीतर ही आठों एनकाउंटर में मारे गए थे | एनकाउंटर ने पूरे…

और पढ़ें →
Published: 30.Jun.2018, 08:10

अजय सेतिया / मध्य प्रदेश के मंदसौर में 7 साल की बच्ची के साथ ही रेप की घटना ने निर्भय की याद ताज़ा की | कठुआ की कहानी को जैसा बढ़ा चढ़ा कर पेश किया गया | वैसा हल्ला अपन मंदसौर रेप काण्ड पर नहीं देख रहे | एक राजनीतिक सोच के जितने लोग सोशल मीडिया पर कठुआ मामले पर भड़के थे | या अखबारों और न्यूज चेनलों में भड़के थे | हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए बच्ची की पहचान और फोटो जाहिर किया गया | जो पोक्सो और जेजेएक्ट का खुला उलंघन था | उन की पेशी अभी सुप्रीमकोर्ट में होना बाकी है |

अब वे सभी के सभी मंदसौर काण्ड पर आपराधिक चुप्पी साधे हुए हैं | मध्य प्रदेश में भी तो भाजपा सरकार है | वे लोग कठुआ में मंदिर को निशाना बना रहे थे | तो मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान को ही घेर सकते थे | आखिर सोशल मीडिया से गायब हो जाने की क्या वजह है | वजह साफ़ है, बच्ची के साथ घृणित अमानवीय अपराध करने वाला मुस्लिम है | कठुआ में रेप का केस हिन्दुओं पर दायर हुआ था और रेप की जगह मंदिर बताई गई थी | अपराधी मुस्लिम हो तो भारत के वामपंथी बुद्धिजियों की बुद्धी काम करना बंद कर देती है | वरना मंदसौर में बच्ची से जैसी…

और पढ़ें →
Published: 27.Jun.2018, 16:28

अजय सेतिया / सैफूदीन सोज फिलहाल कांग्रेस के नेता हैं | पहले नेशनल कांफ्रेंस में थे | नेशनल कांफ्रेंस के कोटे से देवगौड़ा और गुजराल सरकार में मंत्री रहे | नेशनल कांफ्रेंस वाजपेयी सरकार में भी शामिल थी | पर तब फारुख अब्दुला ने उन्हें मंत्री नहीं बनवाया था | जब सोनिया गांधी से सांठगाँठ कर जयललिता ने वाजपेयी से समर्थन वापस लिया | तब वाजपेयी को बहुमत साबित करना था | ठीक उसी समय सैफुद्दीन सोज़ ने फारुख को धोखा दे कर वाजपेयी के खिलाफ वोट किया | वाजपेयी की सरकार एक वोट से गिर गई थी | सो 1999 में वाजपेयी सरकार गिराने का श्रेय सोज़ को जाता है | फारुख ने सोज़ को नेशनल कांफ्रेंस से निकाल बाहर किया था | कांग्रेस ने सोज़ को इस का ईनाम दिया | उसे राज्यसभा का सदस्य बना दिया | फिर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी बनाया | मनमोहन सरकार में मंत्री भी बनाया | कांग्रेस कार्यकारिणी का सदस्य भी बनाया | विकी लीक ने खुलासा किया है कि यूपीए सरकार के समय सोज़ सरकार और अलगाववादियों में लिंक थे | अस्सी साल के सैफूद्दीन सोज़ ने अब सरदार पटेल के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है |

सैफूद्दीन सोज़ से पहले श्रीनाथ राघवन की बा…

और पढ़ें →
Published: 26.Jun.2018, 17:17

अजय सेतिया / अपन ने संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयुक्त जीद-हुसैन-अल-राद की रिपोर्ट का जिक्र किया था | उस ने कश्मीर पर यह रिपोर्ट 14 जून को जारी की थी | भारत ने उसी दिन इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया था | अपन ने उसी दिन लिखा था कि रिपोर्ट पाकिस्तान के इशारे पर बनी है | बाद में पाकिस्तान की गुप्तचर एजेंसी आईएसआई के कई अधिकारियों के फोटो जीद-हुसैन-अल-राद के साथ सामने आए |अपन ने यह भी लिखा था कि भारत तोड़ो गैंग ने भी फीड बैक दिया हुआ है | क्योंकि रिपोर्ट में इसे कई मुद्दे थे, जो भारत तोड़ो गैंग के मुद्दे रहे हैं | जैसे बुरहान वानी को स्टूडेंट बताना | जैसे पेलेट गन का जिक्र | जैसे आफ्सपा और पीएसए क़ानून का जिक्र | रिपोर्ट में आतंकवादियों को आर्म्ड ग्रुप बताया गया | यों रिपोर्ट में पाक के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार हनन की बात भी थी | पर वह सिर्फ डो पैराग्राफ में थी | यानि खुद को निष्पक्ष बताने के लिए | पाकिस्तान को इस रिपोर्ट का इस्तेमाल करना ही था |

और पाकिस्तान की स्थाई प्रतिनिधी मलिहा लोधी ने 24 जून को यह मुद्दा उठा दिया | संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में बहस का मुद्दा था…

और पढ़ें →
Published: 25.Jun.2018, 20:30

अजय सेतिया / तीन जगह से एक जैसी ख़बरों ने मन मोह लिया | अहमदाबाद, दिल्ली और देहरादून की हैं ये तीनों ख़बरें | तीनों जगहों पर वृक्ष काटने के खिलाफ जनता उठ खडी हुई है | इसे पर्यावरण के प्रति नरेंद्र मोदी के भाषणों का असर कहें या स्वयस्फूर्त जागृति | जनजागृति तो हुई है, मोदी चाहें तो शश्रेय ले लें | फिर उन्हें अपनी ही परियोजनाओं से हाथ धोना पडेगा | तीनों जगह लोग वृक्षों से चिपक कर आन्दोलन चला रहे हैं | उत्तराखंड में तो एक मंत्री का महिलाओं ने बुरी तरह घेराव किया | दिल्ली के सरोजनी नगर में बाकायदा लोग पेड़ों से चिपक गए | एक किशोर लडकी कूद कर वृक्ष पर चढ़ गई  | इस लडकी के आन्दोलन को देख अपन को गौरा देवी की याद आ गई | उत्तराखंड के जिस चिपको आन्दोलन का श्रेय सुंदर लाल बहुगुणा को मिलता है , असल में वह गौरा देवी का सफल आन्दोलन था | वह उत्तराखंड के चमौली जिले में रैनी गाँव की रहने वाली थी | रैनी में 2400 वृक्षों को काटा जाना था | यह बात 1973 की है | वन विभाग और ठेकेदार वृक्ष काटने की रणनीति बना रहे थे | गौरा देवी ने गाँव की महिलाओं को इक्कठा कर के वृक्ष बचाने का बीड़ा उठाया | रेणी गां…

और पढ़ें →
Published: 25.Jun.2018, 20:28

अजय सेतिया / कांग्रेस के नेता राहुल गांधी को उभरने नहीं दे रहे | राहुल गांधी को गंभीरता से लेने का जरा सा माहौल बनाता है कि सारा गुड गौबर कर देते हैं | पहले दिग्विजय सिंह ने हिंदुत्व के आतंकवाद की नई थ्योरी दे दी | अब गुलाम नबी आजाद ने कह दिया कि सेना आतंकियों से अधिक नागरिकों को मार रही है | कश्मीर को ले कर कांग्रेसी देश के भावनात्मक लगाव को नहीं समझ रहे | रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के शहीद फ़ौजी औरंगजेब के घर जाने को नौटंकी कहने की क्या जरुरत थी | पर गुलामनबी आज़ाद ने यह भी कह दिया | इसे भाजपा अपने वोटबैंक को मजबूत करने के लिए क्यों नहीं भुनाएगी | राजनीति में कोई किसी को माफ़ थोड़ा ही करता है | इस लिए भाजपा ने गुलामनबी के सामने रवि शंकर प्रशाद को झोंक दिया | बयान भले ही किसी का हो भाजपा के प्रवक्ता जवाब आजकल राहुल गांधी से ही मांगते हैं | मीडिया का एक वर्ग भी उन्हीं के पीछे हाथ धो कर पडा है \ सो घिरते बेचारे राहुल गांधी ही हैं | नरेंद्र मोदी की रणनीति चुनाव तक कश्मीर मुद्दे को गर्म रखने की है | राज्यपाल शासन इसी रणनीति में लगा है | कश्मीर को लेकर देश की भावनाएं भडकी हुई…

और पढ़ें →
Published: 20.Jun.2018, 20:49

अजय सेतिया / दिग्विजय सिंह के गुरु अर्जुन सिंह की पत्नी बेहद मुश्किल में है | उन के बेटे राहुल सिंह ने उन्हें बेदखल कर दिया है | अर्जुन सिंह ने चुरहट लाटरी की काली कमाई से केरवा कोठी बनवाई थी | उस जमाने में किसी राजनीतिज्ञ की वह सब से बड़ी कोठी थी | जिस की राजनीतिक हलकों में चर्चा हुआ करती थी | सुनते हैं कि उस कोठी के बाथरूम में लगी पानी की टूटियां चांदी की बनी हुई हैं | पर अब राहुल सिंह बनाम अजय सिंह उसी कोठी में अपनी मां को घुसने नहीं दे रहे | अर्जुन सिंह की पत्नी सरोज कुमारी ने मंगलवार को अदालत का दरवाजा खटखटा दिया है | सरोज कुमारी ने बताया है कि दिग्विजय सिंह को बीच बचाव के लिए कहा था | कमलनाथ को भी बीच बचाव के लिए कहा था | पर दोनों को अपनी राजनीति से फुर्सत नहीं | अपना एक समय अर्जुन सिंह के यहाँ आना जाना रहा है | अपन जानते हैं कि अर्जुन सिंह भी मुस्लिम परस्ती की राजनीति करते थे | पर वह खुद पक्के हिन्दू थे | हर साल अपने जन्मदिन पर रामकथा करवाते थे | इन रामकथाओं में अपना जाना भी रहा | स्वामी अवधेशानंद गिरी कथा किया करते थे | सरोज कुमारी ने अवधेशानंद गिर…

और पढ़ें →
Published: 19.Jun.2018, 20:35

अजय सेतिया / अपन ने 16 और 18 जून यानि शनि और सोम को कश्मीर पर जो लिखा | उस का लब्बोलुबाब यह था कि संघ मोदी की कश्मीर निति से खफा है | राजनाथ सिंह के घर हुई संघ से जुड़े संगठनों की बैठक ने युद्धविराम खत्म करवाया | तो सूरजकुंड में हुई तीन दिन की बैठक ने महबूबा सराकार गिरवाई | युद्धविराम से भाजपा के काडर और संघ का गुस्सा नाक तक आ गया था | मोदी के पास कोई चारा ही नहीं बचा था | महबूबा मुफ्ती खुलेआम पाक परस्तों को हवा दे रही थी | कठुआ काण्ड ने महबूबा की हिन्दू विरोधी मानसिकता उजागर कर दी थी | हिन्दुओं को बलात्कार के झूठे केस में फंसा कर पूरी दुनिया में बदनाम किया गया | भाजपा चाह कर भी सीबीआई की जांच का आदेश नहीं करवा पाई | अपन को लगता था मोदी इसी मुद्दे पर समर्थन वापस लेंगे | पर उलटे मोदी ने सीबीआई जांच की मांग करने वाले मंत्रियों को हटा दिया था | इस से देश भर के मोदी समर्थकों का गुस्सा भडका हुआ था | ऊपर से महबूबा के कहने में आ कर रमजान में युद्धविराम करवा दिया | इसी पर उन्हें कहा गया कि वह अपने मन की सुना करें | किसी महबूबा मुफ्ती के मन की न सुना करें | राजनाथ सिंह के घर पर 9 और 1…

और पढ़ें →