परिवारवाद का जलवा कहीं पूरा, तो कहीं अधूरा

'टिवटर' के बाद आज 'फेस बुक' की बात। रेखा का भांजा है नवीद अजमन। अपन फिल्मी हिरोइन रेखा की बात कर रहे। मौसी टॉप हिरोइन हो। तो भांजे को उम्मीद होगी ही। जब नेताओं के बेटों-बेटियों को टिकट की उम्मीद। तो नवीद अजमन की उम्मीद फिल्म में रोल था। जब आमिर खान ने अपने भांजे इमरान को फिल्म दिला दी। तो नवीद अजमन की उम्मीद भी जायज। आखिर वह तो आमिर से बड़ी स्टार का भांजा। सो केलिफोर्निया से बड़ी हसरतें पालकर मुंबई पहुंचा था। सालभर मुंबई की खाक छानता रहा। पर रेखा ने धेले की मदद नहीं की। बड़े रुआंसे होकर केलिफोर्निया लौट गए। जाने से पहले अपनी फेसबुक पर लिखा- 'मुंबई का भूत उतर चुका। यहां परिवार की बैक न हो। तो किसी को हुनर दिखाने का मौका नहीं मिलता। सो मैं वापस लौट रहा हूं। कहीं ड्राइवर लग जाऊंगा। या किसी फाइनेंस फर्म में काम कर लूंगा।' पर आपने कभी ऐसा सुना- किसी नेता ने बेटे को छोड़ किसी और के लिए टिकट मांगा। सोचो, नवीद अजमन किसी नेता का भांजा होता। तो महाराष्ट्र या हरियाणा से टिकट ही ले मरता। सोनिया ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील के बेटे राजेंद्र शेखावत को टिकट दे ही दिया। अमरावती से चुनाव लड़ेंगे शेखावत। यहीं से 1995 में देवी सिंह शेखावत चुनाव लड़े थे। तो प्रतिभा ताई पाटील सांसद थीं। पर पति देवी सिंह शेखावत सिर्फ चुनाव नहीं हारे। बीजेपी उम्मीदवार से जमानत जब्त हुई। सो उसके बाद कभी टिकट मांगने की हिम्मत नहीं हुई। जगदीश गुप्ता ने हराया था देवीसिंह शेखावत को। पर उसी जगदीश गुप्ता को अगली बार डा. सुनील देशमुख ने हराया। एक नहीं अलबत्ता दो बार हरा चुके। अभी अशोक चव्हाण की केबिनेट में मंत्री भी। पर सोनिया ने राष्ट्रपति के बेटे को टिकट दिया। तो डा. सुनील क्या करें। पहले बगल की त्योसा या अचलपुर की पेशकश हुई। पर यह तो कोई बात न हुई। राजेंद्र शेखावत को ही मुंह मांगी सीट क्यों? सो डा. सुनील अमरावती लौट चुके। अपन को बगावत की पूरी उम्मीद। ऐसा नहीं, जो राष्ट्रपति का बेटा पहली बार चुनाव लड़ रहा हो। वीवी गिरी जब राष्ट्रपति थे। तो उनका बेटा वी शंकर गिरी चुनाव लड़ा था। पर वह जीत गया था। सोचो, राष्ट्रपति का बेटा हारा। तो कांग्रेस की कितनी भद्द पिटेगी। सोनिया ने मौजूदा एमएलए की टिकट काट दी। पर विलासराव के बेटे अमित को लटका दिया। सुशील कुमार शिंदे की बेटी प्रणीति को लटका दिया। शिवराज पाटिल की पुत्रवधु अर्चना को लटका दिया। पर बेटे-बेटियों को टिकट सिर्फ कांग्रेस से ही नहीं। वंशवादी राजनीति में अब बीजेपी भी पीछे नहीं। प्रमोद महाजन की बेटी पूनम को टिकट मिल ही चुका। अपन बता दें- पूनम महाजन के फूफा हैं गोपीनाथ मुंडे। सो फूफा-भतीजी दोनों चुनाव लड़ेंगे। यहीं पर बस होता। तो गनीमत थी। मुंडे की बेटी और दामाद भी टिकट पा गए। भतीजा धनंजय मुंडे का नाम अगली लिस्ट में हो। तो आप हैरान न होना। एक परिवार से पांच एमएलए हुए। तो रिकार्ड टूटेगा। विजय राजे सिंधिया, माधवराव सिंधिया और वसुंधरा एक ही वक्त सांसद थे। यों अब इसी परिवार के दो सांसद बुआ यशोधरा, भतीजा ज्योतिरादित्य। दूसरी बुआ वसुंधरा राजस्थान की एमएलए। चलते-चलते बात हरियाणा की। भजन लाल का बेटा चंद्रमोहन। वही फिजा वाला चांद मोहम्मद। अच्छा भला डिप्टी सीएम था। पर इश्क ने गालिब निकम्मा कर दिया। अब टिकट भी नहीं मिला। न खुद को, न पुरानी बीवी को। जिसके लिए घूम रहे थे दर-दर।

'टिवटर' के बाद आज 'फेस बुक' की बात। रेखा का भांजा है नवीद अजमन। अपन फिल्मी हिरोइन रेखा की बात कर रहे। मौसी टॉप हिरोइन हो। तो भांजे को उम्मीद होगी ही। जब नेताओं के बेटों-बेटियों को टिकट की उम्मीद। तो नवीद अजमन की उम्मीद फिल्म में रोल था। जब आमिर खान ने अपने भांजे इमरान को फिल्म दिला दी। तो नवीद अजमन की उम्मीद भी जायज। आखिर वह तो आमिर से बड़ी स्टार का भांजा। सो केलिफोर्निया से बड़ी हसरतें पालकर मुंबई पहुंचा था। सालभर मुंबई की खाक छानता रहा। पर रेखा ने धेले की मदद नहीं की। बड़े रुआंसे होकर केलिफोर्निया लौट गए। जाने से पहले अपनी फेसबुक पर लिखा- 'मुंबई का भूत उतर चुका। यहां परिवार की बैक न हो। तो किसी को हुनर दिखाने का मौका नहीं मिलता। सो मैं वापस लौट रहा हूं। कहीं ड्राइवर लग जाऊंगा। या किसी फाइनेंस फर्म में काम कर लूंगा।' पर आपने कभी ऐसा सुना- किसी नेता ने बेटे को छोड़ किसी और के लिए टिकट मांगा। सोचो, नवीद अजमन किसी नेता का भांजा होता। तो महाराष्ट्र या हरियाणा से टिकट ही ले मरता। सोनिया ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील के बेटे राजेंद्र शेखावत को टिकट दे ही दिया। अमरावती से चुनाव लड़ेंगे शेखावत। यहीं से 1995 में देवी सिंह शेखावत चुनाव लड़े थे। तो प्रतिभा ताई पाटील सांसद थीं। पर पति देवी सिंह शेखावत सिर्फ चुनाव नहीं हारे। बीजेपी उम्मीदवार से जमानत जब्त हुई। सो उसके बाद कभी टिकट मांगने की हिम्मत नहीं हुई। जगदीश गुप्ता ने हराया था देवीसिंह शेखावत को। पर उसी जगदीश गुप्ता को अगली बार डा. सुनील देशमुख ने हराया। एक नहीं अलबत्ता दो बार हरा चुके। अभी अशोक चव्हाण की केबिनेट में मंत्री भी। पर सोनिया ने राष्ट्रपति के बेटे को टिकट दिया। तो डा. सुनील क्या करें। पहले बगल की त्योसा या अचलपुर की पेशकश हुई। पर यह तो कोई बात न हुई। राजेंद्र शेखावत को ही मुंह मांगी सीट क्यों? सो डा. सुनील अमरावती लौट चुके। अपन को बगावत की पूरी उम्मीद। ऐसा नहीं, जो राष्ट्रपति का बेटा पहली बार चुनाव लड़ रहा हो। वीवी गिरी जब राष्ट्रपति थे। तो उनका बेटा वी शंकर गिरी चुनाव लड़ा था। पर वह जीत गया था। सोचो, राष्ट्रपति का बेटा हारा। तो कांग्रेस की कितनी भद्द पिटेगी। सोनिया ने मौजूदा एमएलए की टिकट काट दी। पर विलासराव के बेटे अमित को लटका दिया। सुशील कुमार शिंदे की बेटी प्रणीति को लटका दिया। शिवराज पाटिल की पुत्रवधु अर्चना को लटका दिया। पर बेटे-बेटियों को टिकट सिर्फ कांग्रेस से ही नहीं। वंशवादी राजनीति में अब बीजेपी भी पीछे नहीं। प्रमोद महाजन की बेटी पूनम को टिकट मिल ही चुका। अपन बता दें- पूनम महाजन के फूफा हैं गोपीनाथ मुंडे। सो फूफा-भतीजी दोनों चुनाव लड़ेंगे। यहीं पर बस होता। तो गनीमत थी। मुंडे की बेटी और दामाद भी टिकट पा गए। भतीजा धनंजय मुंडे का नाम अगली लिस्ट में हो। तो आप हैरान न होना। एक परिवार से पांच एमएलए हुए। तो रिकार्ड टूटेगा। विजय राजे सिंधिया, माधवराव सिंधिया और वसुंधरा एक ही वक्त सांसद थे। यों अब इसी परिवार के दो सांसद बुआ यशोधरा, भतीजा ज्योतिरादित्य। दूसरी बुआ वसुंधरा राजस्थान की एमएलए। चलते-चलते बात हरियाणा की। भजन लाल का बेटा चंद्रमोहन। वही फिजा वाला चांद मोहम्मद। अच्छा भला डिप्टी सीएम था। पर इश्क ने गालिब निकम्मा कर दिया। अब टिकट भी नहीं मिला। न खुद को, न पुरानी बीवी को। जिसके लिए घूम रहे थे दर-दर।