India Gate Se

Exclusive Articles written by Ajay Setia

क्या जाधव को ढाल बना रहा है पाक 

Publsihed: 13.Apr.2017, 09:59

कुलभूषण जाधव के बहाने नेशनल कांफ्रेंस का पाक समर्थक चेहरा उजागर हुआ | फारूख अब्दुल्ला ने पत्थरबाजों का समर्थन किया था | तब अपन ने फारूख का चुनावी हथकंडा समझा | हालांकि प्त्थार्बाजों पर फारूख की इस चाल का असर नहीं हुआ | वह कश्मीर से लिक्सभा का उपचुनाव लड़ रहे तहरे | फारूख का यह बयान भी 20-22 फीसदी वोटिंग नहीं करवा सका | कश्मीर में सिर्फ पौने सात फीसदी वोटिंग सिर्फ पीडीपी-भाजपा सरकार की विफलता नहीं | नेशनल कांग्रेस की भी विफलता है | जिस के सर्वोच्च नेता फारूख अब्दुल्ला खुद चुनाव लड़ रहे थे | कांग्रेस की भी विफलता है, जो फारूख को समर्थन दे रही थी | फारूख का कश्मीर को अलग वतन बताने वाला जूमला भी

अपनों ने ही देश के जख्मों पर नमक छिडका 

Publsihed: 11.Apr.2017, 23:26

अब एक नई बात सामने आई है | पूर्व नौसेना कमांडर कुलभूषण जाधव का ईरान में आतंकियों ने अपहरण किया था | यह बात जर्मन राजदूत ने कही है | जाधव अपने व्यापार के सिलसिले में ईरान गया था | एक ईरानियन जाधव का बिजनेस पार्टनर भी है | अपहरण के बाद जाधव को आतंकियों ने पाकिस्तान को बेच दिया | पाक कई सालों से बलूचिस्तान में बगावत का ठीकरा भारत के सर फोड़ने के सबूत ढूंढ रहा था | पर कोई सबूत कभी नहीं मिला | पाकिस्तान ने जाधव को भारत का जासूस घोषित कर दिया | सेनिक अदालत में चुपके से मुकद्दमा चलाया और सोमवार  को सजा-ए-मौत सुना दी | मंगलवार को पाकिस्तान पर गुस्सा तो बहुत हुई संसद | सरकार चाहती थी कुलभूषण जाध

क्या सरबजीत,जाधव का बदला कश्मीर में लिया जाएगा ?

Publsihed: 10.Apr.2017, 22:32

पिछले दिनों कुलभूषण जाधव के बारे में अच्छी खबर आई थी | खबर थी कि पाकिस्तान को जाधव के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिले | भारत ने  खुशी का इज़हार किया था | उम्मींद जताई थी कि कुलभूषण को छोड़ दिया जाएगा | सबूत न होने की बात किसी ऐरे गेरे ने नहीं  कही थी | अलबत्ता पाकिस्तान के विदेश मामलों के सलाहाकार सरताज अज़ीज़ ने कही थी | पर सोमवार को अचानक दूसरी खबर आ गई | पाकिस्तान की मार्शल कोर्ट ने कुलभूषण जाधव को सजा-ए-मौत सुना दी |  भारत को तो पता ही नहीं था कि मुकद्दमा  चल कहाँ रहा था | हालांकि भारत ने तेरह बार काऊंसिल का दखल माँगा था | पर पाकिस्तान ने कोई जवाब नहीं दिया | कुलभूषण को बलूच

क्या गौहत्या को बढ़ावा देना चाहती है सुप्रीमकोर्ट 

Publsihed: 08.Apr.2017, 22:36

दादरी की घटना ने देश में गौहत्या के मामले को उछाल दिया था | मुसलमानों के अलावा भी भारत में कुछ लोग हैं ,जो अंग्रेजों की तरह गाय को सिर्फ पशु मानते हैं |  वे खुद को वामपंथी और बुध्दीजीवी कहते हैं | दादरी की घटना पर उन ने अच्छा खासा बवाल काटा | उन्हें तो मोदी के खिलाफ बवाल का बहाना चाहिए था | अब फिर राजस्थान के बहाने बवाल खडा है | राजस्थान के अलवर में गाए तस्करी करने वाले पहलू खान को भीड़ ने पीट पीट कर अधमरा कर दिया | बाद में वह हार्ट अटक से मर गया | जब दादरी की घटना हुई थी, तब सुप्रीम कोर्ट में एक पीआईएल दाखिल हुई थी | अब राजस्थान की घटना हुई, तो सुप्रीम कोर्ट की भी नींद खुल गई | सुप्रीम

क्या भारत का विजुअल मीडिया अनार्की फैलाता है 

Publsihed: 08.Apr.2017, 14:46

करीब एक दशक पहले शरद यादव ने संसद को सावधान किया कथा | सोमनाथ चटर्जी तब लोकसभा स्पीकर थे | एक चेनल के एडिटर-एंकर की ओर से रोज रात 9 बजे सांसदों को गालियाँ दी जा रही थीं | शरद यादव ने संसद को आगाह किया था-" इसे रोकना होगा, वह रोज रात नों बजे सांसदों का अपमान करता है |"  पर सोमनाथ चटर्जी ने इस पर गौर नहीं किया |  वह अनार्की फैलाने वाली कौम से ताल्लुक रखते थे | पर बाद में चटर्जी ने सांसदों को खरीदने वाली कांग्रेस सरकार बचाई | अनार्की फैलाने वाली कौम ने उन्हें निकाल बाहर किया | वह सोमनाथ चटर्जी का लोकसभा में आख़िरी कार्यकाल हो गया | पर वह अपनी अनार्की की विचारधारा विजुअल मीडिया को ट्रा

फारूख के बयान पर जवाब कांग्रेस को देना है 

Publsihed: 05.Apr.2017, 23:43

फारूख अब्दुल्ला ने कश्मीर के अलग वतन की बात की है | उनने सेना पर पत्थर फैंकने वालों का समर्थन किया है | फारूख ने कहा -सेना पर पत्थर फैंकने वालों को टूरिज्म से कुछ लेना देना नहीं | पत्थर फैंकने वाले वतन के लिए लड़ रहे हैं | वे भूखे सो जाएंगे | लेकिन वे चाहते हैं वतन का फैसला हो |  यह खुल्लम खुल्ला पत्थर फैंकने वालों का समर्थन है | पाकिस्तान ने इन पत्थर फैंकने वालों को 500 रूपए रोज के हिसाब से भाड़े पर लिया है | यानि फारूख ने पाकिस्तान की रणनीति का समर्थन किया |  भारत को तोड़ने वाली रणनीति | यानि फारूख ने कश्मीर के अलग वतन की तारीफ़ की | क्योंकि वह कांग्रेस की मदद से कश्मीर का लोकसभा चु

लोकतंत्र को कमजोर करने वाला चौथा खम्भा 

Publsihed: 28.Mar.2017, 23:07

 विजुअल मीडिया का एक वर्ग खुद को सुपर सुप्रीम कोर्ट समझने लगा है | करीब एक दशक पहले शरद यादव ने संसद को सावधान किया था | सोमनाथ चटर्जी तब लोकसभा स्पीकर थे | मनमोहन सिंह की लुंज पुंज सरकार थी |  एक चेनल के एडिटर-एंकर की ओर से रोज रात 9 बजे सांसदों को गालियाँ दी जा रही थीं | शरद यादव ने संसद को आगाह किया था-" इसे रोकना होगा, वह रोज रात नों बजे सांसदों का अपमान करता है |"  पर सोमनाथ चटर्जी ने इस पर गौर नहीं किया |  वह अनार्की फैलाने वाली कौम से ताल्लुक रखते थे | पर बाद में चटर्जी ने सांसदों को खरीदने वाली कांग्रेस सरकार बचाई | अनार्की फैलाने वाली कौम ने उन्हें निकाल बाहर कि

गवाहों की सूची देख बिदक गई सोनिया गांधी 

Publsihed: 26.Mar.2017, 00:04

नेशनल हेराल्ड केस तो आप को याद होगा | संसद का दिसम्बर 2016 का शीत सत्र नेशनल हेराल्ड की भेंट चढ़ गया था | जिस जीएसटी बिल को अरूण जेटली अब पास करवा रहे हैं | वह शीत सत्र में ही पास हो जाता | अप्रेल 2017 से जीएसटी लागू हो जाता | भुत बड़ा टेक्स रिफार्म हो गया होता | पर कांग्रेस ने शीत सत्र नही चलने दिया था | कारण यह था कि सुब्रहमन्यम स्वामी नेशनल हेराल्ड का एक केस कोर्ट में ले गए हैं | केस में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मोती  लाल वोरा और आस्कर फर्नाडिस पर फ्राड का मामला है | चरों को अदालत में जा कर जमानत लेनी पडी थी | चरों जमानत पर छूटे हुए हैं | अब जब यूपी में चारों खाने चित्त होने के बाद

योगी ने दिखाया सुशासन का रास्ता 

Publsihed: 24.Mar.2017, 22:32

बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ को यूपी का सीएम बना कर दो काम किए | एक तो अपने हिन्दू वोट बैंक को मजबूत कर लिया | दूसरे सेक्यूलर ब्रिगेड के जख्मों पर नमक छिड़क दिया  | जनादेश इतना प्रचंड न होता  | तो मीडिया में बैठा सेक्यूलर हल्ला ब्रिगेड हंगामा खडा कर चुका होता | आदित्य नाथ ने लोकसभा में अपने आख़िरी भाषण में अपना एजेंडा बता दिया था | दो टूक शब्दों में बता दिया था कि वह क्या करने जा रहे हैं | उनने कहा-"उत्तरप्रदेश में बहुत कुछ 'बंदी' होने जा रहा है |" उन के इस भाषण से पहले ही बूचडखानों की बंदी शुरू हो चुकी थी | लोकसभा में मुस्लिम सांसद बूचड़खानों की बंदी पर तिलमिलाए हुए थे | पर आदित्यनाथ ने

आयोग ने निकाली ईवीएम विरोधी ब्रिगेड की हवा 

Publsihed: 17.Mar.2017, 07:33

गैर कांग्रेस दलों का गठबंधन शुरू हो चुका | गठबंधन का मुद्दा भले ही वोटिंग मशीने बनी हों | पर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी एक मंच पर आ गए हैं | यह एक बड़ी एतिहासिक घटना है | मायावती ने रिजल्ट वाले दिन ही मशीनों पर सवाल उठा दिया था | अखिलेश यादव ने तुरंत  कहा कि अगर यह सवाल उठा है, तो जांच होनी चाहिए |कांग्रेस के अजय माकन ने दिल्ली नगर निगम के चुनाव बेलेट पेपर से करवाने की मांग रख  दी | इधर यानि कांग्रेस ने भी वोटिंग मशीन पर सवाल उठा दिया |  तो केजरीवाल को भी पंजाब की हार की वजह मशीने लगाने लगा  | जैसे ही केजरीवाल ने पंजाब में वोटिंग मशीनों पर सवाल उठाया | कांग्रेस