Edit Page

सांसदों विधायकों की पेंशन एक पेचीदा सवाल

Publsihed: 19.Mar.2018, 21:25

अजय सेतिया/ दिल्ली के वरिष्ठतम पत्रकार श्री मनमोहन शर्मा जी ने अपनी फेसबुक वाल पर आज आचार्य कृपलानी और सुचेता कृपलानी से जुड़ी एक याद साझा की है । उसे पढ़ कर सांसदों के वेतन भत्तों पर कुछ लिखना जरूरी हो गया है। पहले आप मनमोहन शर्मा जी का लिखा पढ़ें, फिर ताज़ा स्थिति पर मेरी टिप्पणी। मनमोहन शर्मा लिखते हैं :-"" आचार्य कृपलानी की बेबाक टिप्पणी से एक बार मेरा भी वास्ता पड़ा था। बात कई दशक पुरानी है। आचार्य कृपलानी अपनी पत्नी सुचेता कृपलानी सहित उन दिनों तंगदस्ती का शिकार थे। यह दम्पति बेहद ईमानदार थे। उनदिनों वे दिल्ली के ग्रीन पार्क बस्ती के एक गराज पर बने एक कमरे में रहा करते

विपक्ष से ज्यादा तो भाजपा का वर्कर खुश है 

Publsihed: 14.Mar.2018, 20:47

अजय सेतिया / उत्तर प्रदेश से लोकसभा की दो सीटों के चुनाव नतीजों ने नरेंद्र मोदी और अमित शाह को चौंकाया होगा | अलवर और अजमेर की हार का ठीकरा वसुंधरा राजे के सिर फोड़ दिया गया था | इसी लिए वसुंधरा राजे के घौर विरोधी किरोड़ी लाल मीना को राज्यसभा का टिकट दिया गया | उन्हें बदलने की अफवाहें भी फैलाई जा रही हैं | क्या अब योगी आदित्य नाथ को भी मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की अफवाहें उडाई जाएँगी | वह तो खुद अपनी लोकसभा सीट हारे हैं , क्या उप-मुख्यमंत्री मौर्य को भी हटाया जाएगा | इस से पहले मध्य प्रदेश की झाबुआ और पजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट भी भाजपा हारी थी |  ये सारी वो सीटें है

जनता अत्याचारियों के प्रतीकों को उखाड़ फैंकती है

Publsihed: 08.Mar.2018, 12:50

नई दिल्ली ( अजय सेतिया ) | त्रिपुरा में कम्युनिस्टों की हार के बाद 25 वर्ष से उन के अत्याचारों से पीड़ित जनता ने रूस के क्रांतिकारी लेनिन की प्रतिमा को बुलडोजर से गिरा दिया | जिस पर सेक्यूलर जमात फिर बिफर उठी है और भाजपा पर असहिशयुन्ता का आरोप लगा रही, जिस ने कम्युनिस्टों का 25 साल पुराना शासन उखाड़ फैंका है | 

होली पर्व के पौराणिक राज छुपे हैं पाकिस्तान में

Publsihed: 02.Mar.2018, 09:44

होली शायद दुनिया का एकमात्र ऐसा त्योहार है, जो सामुदायिक बहुलता की समरस्ता से जुड़ा हुआ है। इस पर्व में मेल-मिलाप का जो आत्मीय भाव अंतरमन से उमड़ता है, वह सांप्रदायिक अतिवाद और जातीय जड़ता को भी ध्वस्त करता है। होली का त्योहार हिरण्यकश्यपु की बहन होलिका के दहन की घटना से जुड़ा है। ऐसी लोक-प्रचलित मान्यता है कि होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था। वस्तुत: उसके पास ऐसी कोई वैज्ञानिक तकनीक थी जिसे प्रयोग में लाकर वह अग्नि में प्रवेश करने के बावजूद नहीं जलती थी |

केजरीवाल-कमल हासन वामपंथियों के शहरी चेहरे

Publsihed: 22.Feb.2018, 21:47

अजय सेतिया / जब आप पार्टी बन रही थी | तभी अपन ने एक लेख लिखा था | ओम थानवी के जमाने में जनसत्ता में भेजा गया वह अपना आख़िरी लेख था | जो छपा नहीं , और फिर अपन ने लिखा नहीं | उस लेख में अपन ने लिखा था कि केजरीवाल वामपंथी नक्सली है | उस के नक्सलियों से करीबी सम्बन्ध हैं | यों तो अपन को ओम थानवी के वामपंथी होने का पता था | पर प्रभाष जोशी की परम्परा वाले जनसत्ता में सम्पादक की विचारधारा से लेख तय नहीं होते थे | जिसे ओम थानवी ने पैरों तले रौंद दिया था | वह तो अपन को बाद में पता चला कि ओम थानवी भी केजरीवाल के बुद्धीपुरुष थे | और राज्यसभा पर निगाह टिकाए हुए थे |

पीएम और उनके समर्थकों की समस्या

Publsihed: 17.Feb.2018, 00:20

आलोक शर्मा / जयपुर के चांदपोल इलाके में एक नामी मुस्लिम रेस्तरां है 'बिस्मिल्लाह'। मशहूर उससे पहले से है, जब से मैंने उसे जाना। यह वक्फ़ा भी तीस साल तो होगा ही। इस्लाम में जक़ात का नियम है। इसके मुताबिक़ प्रत्येक मनुष्य को अपनी आय का एक निश्चित हिस्सा दान करना चाहिए। इसकी शुरुआत करने वाले सज्जन ख़ालिस मज़हबी उसूलपसंद और सज्जन इंसान थे। इसलिए उन्होंने नियम बना रखा था कि प्रतिदिन सुबह-शाम जब भी कारोबार की शुरुआत होती, एक घंटा अवधि तक जरूरतमंदों को निशुल्क भोजन वितरित किया जाता था। इस अवधि में उसके सामने फकीरों, भिखारियों और अन्य बेबसों की भीड़ लगी रहती। अच्छाई आपको मोल चुकाती ही है। अल्लाहतआला ने उ

चीफ जस्टिस के खिलाफ बगावत क्यों ?

Publsihed: 13.Jan.2018, 23:34

अजय सेतिया / बिहार विधानसभा चुनावों से ठीक पहले असहिष्णुयता का बवंडर खडा हुआ था | पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले ड्रग्स का बावेला खड़ा हुआ था। गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले दलित-पटेलों का आन्दोलन उफान पर था | अब लोकसभा चुनावों की रूपरेखा बनने लगी है | अगर रामजन्मभूमि का फैसला हो गया और वह राममंदिर के पक्ष में आ गया, जिस की संभावने है,तो फिर सेक्यूलर जमात की सारी रणनीति धरी रह जाएगी | इसलिए कांग्रेस के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीमकोर्ट से दरख्वास्त की थी कि रामजन्मभूमि की सुनवाई मई 2019 तक यानी लोकसभा चुनाव तक टाली जाए | चीफ जस्टिस दीपक मिश्र इस केस की सुनवाई कर रहे हैं और उन्हो

टीएन. शेषन वृद्धाश्रम में जी रहे हैं गुमनामी भरी जिंदगी

Publsihed: 11.Jan.2018, 08:46

श्याम सिंह रावत /

देश में निर्वाचन आयोग की प्रतिष्ठा और हनक कायम करने वाले पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन. शेषन आज बुढ़ापे में संकट-भरा जीवन गुजार रहे हैं। एक वृद्धाश्रम में उनकी जिंदगी गुमनाम शख्स की तरह कट रही है। 

कौन हैं सम्भाजी राव भिड़े , जो कौरेगांव हिंसा में नामजद हुए

Publsihed: 06.Jan.2018, 20:31

अजय सेतिया | भीमा-कोरेगांव में एक जनवरी के दिन हुई हिंसा के आरोप में मंगलवार को दो हिंदुवादी नेताओं शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान के जानेमाने नेता संभाजी भिड़े और समस्त हिंदू आघाडी के मिलिंद एकबोटे के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। भारीपा बहुजन महासंघ के अध्यक्ष प्रकाश अंबेडकर के दबाव में पुलिस ने इन दोनों सामाजिक नेताओं पर शिकायत दर्ज की है।

पाक और इस्राईल पर अमेरिकी नीति अपनानी पड़ेगी 

Publsihed: 01.Jan.2018, 19:16

अजय सेतिया / पाकिस्तान के खिलाफ अब बड़े आपरेशन की जरूरत है | मोदी सरकार की सफलता यह है कि पाकिस्तान को अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय में अलग थलग किया है | अब सिर्फ चीन ही उस का साथी है, वह भी इकनामिक स्वार्थ के कारण | अमेरिका अब पूरी तरह पाकिस्तान को कटघरे में खड़ा करने के मूड में दिखता है | ट्रम्प ने ओबामा की ढिलमुल नीति छोड़ कर पाक पर निशाना साधा हुआ है | सोमवार को नए साल के पहले दिन ट्रम्प ने खुद एक ट्विट में कहा-" बीते 15 सालों में पाक को 33 अरब डॉलर की मदद अमेरिका की बेवकूफी थी | पाकिस्तान ने बदले में झूठ और धोखा ही दिया | पाकिस्तान हमारे नेताओं को मूर्ख समझता है | जिन आतंकियों