Edit Page

पाक ने कूटनीतिक हार स्वीकार की 

Publsihed: 25.Sep.2019, 14:10

अजय सेतिया / अमेरिका में चल रही संयुक्त राष्ट्र की बैठक के दौरान अपना ध्यान भारत , अमेरिका और [पकिस्तान पर टिका रहना स्वाभाविक है | भारत और पाकिस्तान का मीडिया डोनाल्ड ट्रम्प की बाडी लेंग्वज से अंदाजे लगा कर बता रहा है ट्रम्प कब भारत की तरफ झुके और कब पाकिस्तान की तरफ | ट्रम्प ने एक दिन पाकिस्तानी मीडिया का मजाक उड़ाया और दूसरे दिन भारतीय मीडिया के सवालों पर भी चुटकी ली | पर महत्वपूर्ण बात यह है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर कूटनीतिक विजय हासिल कर ली है | हालांकि मंगलवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मुहम्मद कुरैशी ने ट्रम्प के इस बयान को प

ट्रम्प से गुहार और हरावल दस्ता 

Publsihed: 24.Sep.2019, 14:27

अजय सेतिया  / अटल बिहारी वाजपेयी और नवाज शरीफ में बेक चेनल के माध्यम से हुई बातचीत में कश्मीर समस्या का स्थाई हल निकालने की बात काफी हद तक आगे बढ़ गई थी | तब वाजपेयी की तरफ से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार बृजेश मिश्रा और नवाज शरीफ की ओर से नयाज नायक बेक चेनल बातचीत कर रहे थे | सरताज अज़ीज़ के मुताबिक़ फार्मूला यह था कि जम्मू और लद्दाख भारत का हिस्सा मान लिया जाए और दोनों तरफ के कश्मीर में साझा मेकनिज्म तैयार किया जाए | उस मेकनिज्म की डिटेल भी तैयार की गई थी , लेकिन आज उस पर बात करने का वक्त नहीं | जुलाई महीने में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जिस तरह यह कह दिया था कि मोदी मध्यस्थता चा

मोदी और ट्रम्प ने एक दूसरे को इस्तेमाल किया 

Publsihed: 23.Sep.2019, 23:27

अजय सेतिया /अंगरेजी वाले शब्दों का कैसे कैसे इस्तेमाल करते हैं , कई बार समझ से परे होता है | अंगरेजी के शब्द हौउडी का शाब्दिक अर्थ है –“ कैसे हो “ | इस रविवार अमेरिका के टेक्सास में जो हौउडी मोदी शौ हुआ हुआ , उस का मतलब है “ कैसे हो मोदी |“ खैर खचाखाच भरे टेक्सास के स्टेडियम में हुए हौउडी मोदी जलसे के अपन दो मतलब निकालते हैं | पहला तो यह कि मोदी ने ट्रम्प को इस्तेमाल किया और ट्रम्प ने मोदी को इस्तेमाल किया | दोनों ने एक दूसरे की तारीफ़ में कसीदे पढ़े , जैसे अपन हिन्दी में कहते हैं –तुम मुझे पन्त कहो , मैं तुम्हें निराला ( हिन्दी के गौरव कवि सुमित्रानंदन पन्त और सूर्य कान्त त्रिपाठी निराला ) |

कोई मदद कर रहा है चिन्मयानंद की

Publsihed: 21.Sep.2019, 23:23

अजय सेतिया / वाजपेयी सरकार में गृह राज्य मंत्री रहे चिन्मयानंद  को यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है | आप हैरान हुए होंगें कि अपन ने यौन शोषण क्यों लिखा , बलात्कार क्यों नहीं लिखा | यह इस लिए क्योंकि एसआईटी ने चिन्मयानंद के साथ नरमी बरतते हुए उन पर बलात्कार की धारा 376 नहीं लगाई, बल्कि  यौन शोषण की धारा 376 (सी) लगाई है | जब कि यौन शोषण का शिकार हुई चिन्मयानंद के ला कालेज की छात्रा ने खुद एसआईटी के सामने दिए अपने बयान में बलात्कार का आरोप लगाया था | हैरानी की बात तो यह है कि उत्तर प्रदेश पुलिस के चीफ अपनी प्रेस कांफ्रेंस में कहते हैं कि चिन्मयानंद को बलात्कार के आरोप मे

इस लिए जरूरी है यूनिफार्म सिविल कोड

Publsihed: 19.Sep.2019, 14:23

अजय सेतिया / हिंदू मैरिज ऐक्ट के मुताबिक शादी के लिए लड़की की उम्र 18 साल और लड़के की 21 साल है | चाइल्ड मैरिज प्रोहिब्शन ऐक्ट के मुताबिक भी 18 साल से कम उम्र की लड़की और 21 साल से कम उम्र के लड़के की शादी नहीं हो सकती | अगर यह शादी होती है, तो अमान्य होगी | पोक्सो क़ानून में 18 साल से कम आयु की लडकी के साथ शारीरिक सम्बन्धों को रेप माना गया है , भले ही वे सम्बन्ध सहमती से बने हों या असहमति से | भले ही वह बाल विवाह निरोधक क़ानून का उलंघन कर के उस की पत्नी बनी हो |

लटकाने की कोशिशें हुई नाकाम 

Publsihed: 18.Sep.2019, 12:30

अजय सेतिया / जब सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भोले भले निर्मोही अखाड़े को अपनी चुपड़ी चुपड़ी बातों में फंसा कर अयोध्या मुद्दे पर फिर से बातचीत शुरू करने की संयुक्त चिठ्ठी लिखी तो अपने कान खड़े हुए थे | अपन को आशंका थी कि यह सुप्रीमकोर्ट में चल रही सुनवाई को ठप्प करने की नई साजिश है | सुप्रीमकोर्ट ने भी इस साजिश को समझा होगा , इसलिए उस ने दो-टूक कह दिया कि सुनवाई तो नहीं रुकेगी आप चाहें तो बातचीत जारी रखें | वैसे भी कोर्ट में गए पक्ष जब चाहे आपसी समझौता कर के कोर्ट के सामने आ सकते हैं , अगर सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा बिना चिठ्ठी लिखे भी फैसले से पहले सब पक्षों को मान्य हल ले कर कोर्ट के सामने जा

कश्मीर के हालात पर ग्रांऊड जीरो रिपोर्ट ajaysetia 17.Sep.2019, 22:02

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के बाद अब जम्मू कश्मीर और लददाख बदलाव और उम्मीद की एक नई करवट ले रहा है।कश्मीर में आम आदमी की जिंदगी जहां आशा और आशंका में लिपटी हुई नजर आती है वहीं कश्मीर से अलग केंद्र शासित राज्य बनने को लेकर लददाख में आम आदमी खुलकर खुशी जताता मिलता हैं।घाटी में शांतिपूर्ण चुप्पी छाई है तो जम्मू में विकास की नई उम्मीद जागी है। इस सबके बीच कश्मीर में अलगवादियों और आतंकवादियों की ओर से बंदूक,पत्थरबाजी भड़काऊ पोस्टर—बयान और हरकतों से डर का वातावरण बनाने की कोशिश की जा रही है। नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) के नेतृत्व में विभिन्न मीडिया संस्थान

कश्मीर के सच को स्वीकारना होगा

Publsihed: 17.Sep.2019, 17:32

अजय सेतिया / विदेशी मीडिया की यह खबरें तो पूरी तरह गलत साबित हो रही हैं कि कश्मीर में मीडिया को आज़ादी नहीं | अगर ऐसा होता तो मीडिया कश्मीर की अंदरुनी खबरे इतनी बड़ी मात्रा में देता कैसे | भारत की तरफ से 370 हटाए जाने की खुलेआम मुखालफत करनी वाली ब्रिटिश वेबसाईट बीबीसी पर भी ऐसी अनेक खबरें भरी पड़ी हैं , जिन में वीडियो भी दिए गए हैं | अब दिल्ली के कई पत्रकार भी कश्मीर हो आए हैं , और अपने अपने नजरिए से जमीनी हकीकत की रिपोर्टिंग कर रहे हैं | नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट का एक प्रतिनिधिमंडल भी कश्मीर और लद्दाख हो कर लौटा है | वहां से लौट कर आए प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्य ने बताया कि जम्मू कश्मीर के सभी