Current Analysis

Earlier known as राजनीति this column has been re-christened as हाल फिलहाल.

बादल हो सकते हैं राष्ट्रपति पद के सशक्त उम्मीन्दवार

Publsihed: 13.Jun.2017, 19:52

नई दिल्ली। ( indiagatenews) भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राजनाथ सिंह,अरुण जेटली और वेंकैया नायडू पर आधारित तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है, जो राष्ट्रपति पद के सर्व मानी उम्मीन्द्वार के लिए सभी दलों से बातचीत करेगी | हालांकि वाईएस राजशेखर कांग्रेस की ओर से भाजपा उम्मीन्द्वार को समर्थन की घोषणा और अन्ना द्रमुक , टीआरएस की ओर से समर्थन के संकेतों के बाद अब यह स्पष्ट हो चुका है कि एनडीए उम्मीन्दवार का भारी बहुमत से जीतना तय है | उम्मींद है कि एनडीए अपने उम्मीन्द्वार का निर्णय 23 जून से पहले कर लेगा |

ममता ने शांत गोरखालैंड में भाषा की आग लगा दी

Publsihed: 09.Jun.2017, 09:43

कलकत्ता। पश्चिम बंगाल की ममता सरकार की तरफ से राज्य के सरकारी स्कूलों में बंगाली भाषा को अनिवार्य किए जाने के प्रस्ताव के खिलाफ गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के आंदोलन ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया है। इस दौरान जीजेएम के समर्थकों की पुलिस से झड़प भी हुई है। गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के समर्थकों ने पुलिस के वाहनों को आग के हवाले कर दिया और उन पर पथराव भी किया है।

बैंकों में नई भर्तियाँ बंद होंगी , छंटनी का दौर शुरू

Publsihed: 09.Jun.2017, 09:33

नई दिल्ली | नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने कहा कि ऑनलाइन बैंकिंग का बढ़ता चलन आने वाले सालों में बैंक शाखाओं को समाप्त कर देगा | उन का यह ब्यान इस बात अ शुरुआती संकेत है कि बैंकों में भी नई भर्तियाँ बंद हो जाएँगी और छंटनी का दौर शुरू हो जाएगा |

बेचारा कर्जदार किसान क्या करे 

Publsihed: 09.Jun.2017, 08:41

अजय सेतिया / मोदी सरकार के तीन साल पूरे हुए तो 26 मई को लोकसभा टीवी पर घंटे भर की चर्चा थी | तीन पत्रकारों को बुलाया हुआ था , चर्चा के आखिर में एंकर ने आख़िरी वाक्य बोलने को कहा | संयोग से आखिर में मुझे बोलने को कहा गया था | मैंने पांच मुद्दों की शिनाख्त की थी और  कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बाकी के दो साल में इन पांच मुद्दों से निपटना होगा | अगले दिन 27 मई को इन्हीं पांच मुद्दों पर मेरा लेख नवज्योति में भी छपा था | ये पांच मुद्दे हैं  किसान, बेरोजगारी,कश्मीर,आतंकवाद और नक्सलवाद | बाद में अपने एक लेख में मैंने आतंकवाद और नक्सलवाद के चीर स्थाई मुद्दों को

मनमोहन पर फिल्म पर रोक लगवाने कोर्ट जाएगी कांग्रेस

Publsihed: 07.Jun.2017, 13:59

मुंबई। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर बन रही फिल्म द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर पर रोक लगवाने के लिए कांग्रेस  कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की आशंका है | यह फिल्म पत्रकार संजय बारू की किताब द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर: द मेकिंग एंड अनमेकिंग ऑफ मनमोहन सिंह पर आधारित है। बारू खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया अड़वाईजर थे | इस से पहले सोनिया गांधी पर लिखी एक किताब पर आधारित निर्माणाधीन फिल्म के खिलाफ भी कांग्रेस कोर्ट गई थी | 

अब न्यायमूर्ति भी बन गए रवीश कुमार 

Publsihed: 06.Jun.2017, 06:25

कभी वे पत्रकार थे। रिपोर्टर थे, तो गांव-गांव घूम कर बेहतरीन रिपोर्टिंग करते दिखते थे। फिर उन्होंने चोला बदला, लेकिन अंदाज़ वही रहा अर्थात देहाती लहज़े वाला सूट-बूट धारी एंकर। फिर यकायक वे अपने मीडिया हाउस के कर्मचारी से 'गोदी कर्मचारी' में तब्दील हो गए, तो चर्चा में भी आ गए। उन्हें ख़ुद लम्बे-लम्बे ख़त लिखने का भारी शौक है, लेकिन कोई उनके पत्र का उत्तर दे दे, तो पेट में ऎसी मरोड़ उठती है कि वे उसे चम्पू और सत्ता का दलाल कहने लगते हैं। अर्थात अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देशभर में सिर्फ़ उन्हें है। किसी अन्य को नहीं है। अब वे बिना जांच हुए, बिना मुक़दमा फ़ैसला भी सुनाने लगे हैं यानी अब वे न्यायमूर्ति भी

नमामि गंगे का बजट बर्बाद नहीं करेंगे ,लेप्स नहीं होगा , : उमा भारती

Publsihed: 05.Jun.2017, 19:42

नई दिल्ली । केंद्र की वर्तमान मोदी सरकार ने गंगा की साफ-सफाई के लिए नामामि गंगे योजना में पिछले तीन साल में 5378 करोड़ रूपए मजूर किए ,लेकिन मंत्रालय ने अभी तक सिर्फ 1836 करोड़ रूपए खर्च हुए हैं | नमामि गंगे योजणा की प्रभारी मंत्री उमा भारती ने कहा है कि योजना का पैसा लेप्स नहीं होगा, इस लिए मंत्रालय को खर्च करने की कोई जल्दी नहीं है | उन्होंने कहा कि पैसे की बर्बादी से अच्छा है कि सरकारी ख्जाब्ने में पडा रहे | ( इस बीच फरूखाबाद में उमा भारती ने कहा कि गंगा को साफ करने के लिए चरणबद्ध तरीके से साफ किया जाएगा, जिसमें करीब 10 साल का समय लग सकता है।) 

आयोग की ईवीएम बनाम गफ्फार मार्केट की ईवीएम 

Publsihed: 02.Jun.2017, 22:48

उत्तरप्रदेश में कई बार से बसपा सपा चल रहा था | इस बार बसपा की बारी थी | मायावती बड़ी उम्मींद लगा कर बैठी थी | संसद के सेंट्रल हाल की गप-शप में बाकायदा खेमे बने हुए थे | कोई खेमा मायावती को जीता रहा था | तो कोई खेमा अखिलेश को दुबारा सत्ता में ला रहा था | भाजपा का तो लगभग सारे बंटाधार किए बैठे थे | पर सब दावे चंडूखाने के निकले | पहली बार भाजपा पूरे बहुमत के साथ सत्ता में आ गई | बहुमत भी इतना कि सब की बोलती बंद हो गई | मायावती ने तो भाजपा पर ईवीएम मशीनों से हेराफेरी कर जीतने का आरोप लगा दिया | गोवा और पंजाब में बुरी तरह हारे केजरीवाल के लिए तो बिल्ली को भागों छिका फूटा वाली बात हो गई | उनने तुर

झौपडी का बचपन,16 फ्रैक्चर और 6 सर्जरी के बादआईएएस

Publsihed: 02.Jun.2017, 19:29

नई दिल्‍ली। आपने अगर ठान लिया है कि सफलता पानी है तो कोई भी आपका रास्‍ता नहीं रोक सकता। इरादे मजबूत हों और मन में लगन तो आदमी हो या औरत क्‍या नहीं कर सकता। ऐसा ही जीता जागता उदाहरण यूपीएससी परीक्षा में पास हुई उम्‍मुल खेर का है।

घोटाला खोलने वाले कमिश्नर का हुआ तबादला

Publsihed: 01.Jun.2017, 22:57

नई दिल्‍ली (साभार एनडीटीवी ) उत्तराखंड में हाईवे घोटाले को खोलने वाले 2002 बैच के सेंथिल पांडियन को कुमाऊं कमिश्नर के पद से हटा दिया गया है. पांडियन ने इस पद पर रहते ही वह रिपोर्ट तैयार की थी जिसमें 300 करोड़ के घोटाले का पता चला और राज्य के कई अधिकारियों को सस्पेंड किया गया. जब पांडियन को हटाये जाने की ख़बर आई तो एनडीटीवी इंडिया की टीम उस रास्ते पर ही थी जहां ज़मीन अधिग्रहण में घपले की बात उजागर हुई है.