क्या सुषमा स्वराज का मंत्रालय बदल रहा है

नरेंदर मोदी अपने मंत्रिमंडल मे कभी भी फेरबदल कर सकते हैं। अमित शाह ने इसी इंतजार मे अभी तक अपनी नयी टीम का ऐलान नहीं किया है। भाजपा का पदाधिकारी बनने की लाइन मे खड़े भाजपा के नेता चाहते हैं कि मोदी इसी हफ्ते मे मंत्रिमदल का फेरबदल कर लें ताकि संगठन का काम भी ढंग से शुरू हो सके। आज विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की प्रेस कान्फ्रेंस ने इन अटकलों को रफ्तार दे दी है कि इसी हफ्ते मंत्रिमंडल मे फेरबदल हो रहा है।
सवाल सेहत का 

एक साथ चुनाव की पेचिदगियां

2002-03 में अटल बिहारी वाजपेयी और भैरो सिंह शेखावत ने एक मुहिम बडे जोरदार ढंग से चलाई थी कि लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ होने चाहिए. कांग्रेस को लगा कि ऐसे होने पर एनडीए ऐर भाजपा को फायदा हो सकता है.इसलिए कांग्रेस ने उससमुहिम को पंक्चर कर दिया था. चुनाव आयोग ने इस तरह के सुझाव पर विचार करने को कहा था. एनडीए में भी सहमति बनने लगी थी. बीजू जनता दल उस समय एनडीए का हिस्सा था.

मंत्रिमंडल फेरबदल 21-22 को

मंत्रिमंडल का फेरबदल 21-22 जून को हो सकता है  , भाजपा की राष्ट्रिय कार्यकारिणी का गठन भी इस के बाद होगा । सूत्रों  के मुताबिक कार्यकारिणी बैठक भी टाली जा रही है। । 12 जून की अब दिल्ली मे सिर्फ पदाधिकारियों और प्रदेश प्रभारियों की बैठक ही होगी । पूर्वोतर मे भाजपा की बढ़त; असम विधान सभा मे जीत से  शुरू   हुयी भाजपा की सफलता पूरवोतर मे लगातार आगे बढ़ रही है । गुवाहाटी महानगर पालिका  पर कब्जे के बाद भाजपा  को आज इम्फ़ाल नागा निगम मे जोरदार सफलता मिली। भाजपा को निगम मे 12 सीटें म

वाडरा के बचाव मे उतरी सोनिया, कहा षड्यंत्र है.

सोनिया गांधी ने आयकर विभाग की ओर से उनके दामाद रोबर्ट वाडरा की लंदन मे कथित संपत्ति की आशंका व्यक्त किए जाने पर तीखा प्रहार किया है। सोनिया गांधी ने कहा कि उनके दामाद के खिलाफ लगाए जा रहे आरोप भाजपा के कांग्रेस मुक्त भारत एजेंडे का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि रोबर्ट वाडरा के हथियारों के व्यापारी संजय भण्डारी के साथ सम्बन्धों का खुलासा हुया है। संजय भण्डारी ने 2008 में  सिर्फ एक लाख के पूंजी निवेश से काम शुरू किया था । कथित तौर पर वह रोबर्ट वाडरा की मदद से हथियारों के सौदे पाने लगा और कुछ ही दिनों मे अरबपत्ति बन गया । आयकर विभाग संजय भण्डारी कि जांच कर रहा है, इसी जांच के दौरान संजय भण्ड

मोदी का जादू बरकरार

असम जीतने के बाद मोदी के होंसले बुलंद हो गए हैं. मोदी ने यूपी को टार्गेट कर लिया है. इस लिए केंद्र सरकार के दो साल पूरे होने की रैली आज पश्चिम उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुई. भीड देख कर मोदी गदगद हो गए. पर यह उतर प्रदेश भाजपा प्रभारी ओम माथुर और संगठन मंत्री सुनील बंसल की महीने भर की मेहनत का नतीजा है. पर भाजपा में भी अब कांग्रेस कलचर शुरू हो गया है.सफलता मोदी की, असफलता प्रदेश ईकाई की. जय हो.

नवाज क्यों अमेरिकी दिलचस्पी पैदा कर रहे?

नया इंडिया, 03 November 2015

जम्मू-कश्मीर नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की हरकतों का भारत से कड़ा जवाब मिलने का पाकिस्तान पर गहरा असर हुआ है। तभी अक्तूबर में अमेरिका-पाक वार्ता में नवाज़ शरीफ ने इस मुद्दे पर बाराक ओबामा के सामने गहरी चिंता जाहिर की। पाकिस्तान में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की यह महत्वपूर्ण उपलब्धि मानी जा रही हैं कि संयुक्त राष्ट्र मे विफलता के बावजूद वे बाराक ओबामा के साथ साझा बयान मे नियंत्रण रेखा पर तनाव का उल्लेख करवाने में सफल हुए।

क्षत्रपों के बिना नहीं उभरेगी कांग्रेस

सोनिया ने हारों से सबक लेकर कमेटी बनाने का फैसला किया है, लेकिन लालकृष्ण आडवाणी क्षत्रपों को उभारकर पार्टी की जड़ें जमा रहे हैं। कांग्रेस के अब देश में सिर्फ 656 विधायक, जबकि भाजपा के 940 हो गए हैं।

अगर कोई कांग्रेस के घटते ग्राफ और भाजपा के बढ़ते ग्राफ की वजह पूछना चाहें, तो मैं कहूंगा कि कांग्रेस में क्षत्रप उभरने नहीं दिए जा रहे और भाजपा में क्षत्रप दिन-प्रतिदिन ताकतवर हो रहे हैं। चार दशक पहले तक कांग्रेस अपनी क्षत्रप नेताओं की वजह से एक मजबूत पार्टी थी, इंदिरा गांधी ने एक-एक करके क्षत्रपों को खत्म कर दिया और कांग्रेस को केंद्रीय नेतृत्व के इर्द-गिर्द सीमित कर दिया। दूसरी तरफ पिछले पांच सालों में भाजपा ने नरेंद्र मोदी, वसुंधरा राजे, प्रेम कुमार धूमल, मेजर भुवन चंद्र खंडूरी और अब येदुरप्पा को क्षत्रप के तौर पर उभरने का पूरा मौका दिया है।

आतंकवाद राष्ट्रीय मुद्दा घोषित किया जाए

फैडरल जांच एजेंसी ही नहीं, फैडरल कानून और फैडरल अदालत की भी जरूरत। आतंकवाद से लड़ने के लिए राज्यों और राजनीतिक दलों को तुच्छ राजनीति छोड़नी होगी।

इसी पखवाड़े राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के नोएडा में डा. राजेश तलवार और डा. नूपुर तलवार की चौदह साल की बेटी आरुषि की हत्या हो गई। नोएडा पुलिस ने पहले दिन हत्या के फौरन बाद से गायब घरेलू नौकर हेमराज पर शक किया। हेमराज की तलाश में पुलिस टीम नेपाल भेज दी गई। अगले दिन डा. तलवार के घर की छत पर हेमराज की लाश मिली, तो पुलिस के होश उड़ गए। नोएडा पुलिस लगातार सात दिन तक हवा में तीर मारती रही और अफवाहों को हवा देती रही।

भारत का विभाजन चाहते हैं जेहादी

पाकिस्तानी आतंकवादियों को अब भारत में बांग्लादेशी और सिमी के कार्यकर्ता जमीनी मदद दे रहे हैं

भारत में मुसलमानों की आबादी पंद्रह करोड़ के आसपास है। मुसलमानों की आबादी के लिहाज से इंडोनेशिया के बाद भारत का दूसरा नंबर है। दुनियाभर में चल रहे इस्लामिक कट्टरपंथ का भारत के मुसलमानों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। कुछेक जगहों पर जरूर विभिन्न स्थानीय शिकायतों के कारण मुस्लिम युवक पाकिस्तानी गुप्तचर एजेंसी आईएसआई और पाकिस्तानी कट्टरपंथी और जेहादी संगठनों के बहकावे में आए होंगे। बहुसंख्यक भारतीय मुसलमान देश के प्रति वफादार और कानून का पालन करने वाले हैं। अगर उनकी छोटी-मोटी शिकायतें रही भी होंगी, तब भी उन्होंने भारत के हिंदुओं और भारतीय सरकार के खिलाफ आतंकवादियों का साथ नहीं दिया। भारत के मुसलमान आधुनिक विचारों के, शांतिप्रिय और विकासशील हैं।

कांग्रेस के करिश्माई नेतृत्व का अंत

राजनीति में हर छोटी बात का महत्व होता है। यह अनुभव से ही आता है। गुजरात विधानसभा के चुनावों में सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी को मौत का सौदागर ही तो कहा था। इस छोटी सी बात से गुजरात में कांग्रेस की लुटिया डूब गई। चुनाव जब शुरू हुआ था तो कांग्रेस का ग्राफ चढ़ा हुआ था और दिल्ली के सारे सेक्युलर ठेकेदार ताल ठोककर कह रहे थे कि इस बार मोदी नप जाएंगे। चुनावी सर्वेक्षण भी कुछ इसी तरह के आ रहे थे। लेकिन जैसे-जैसे चुनावी बुखार चढ़ा। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी मौत के सौदागर जैसी छोटी-छोटी गलतियां करती चली गई और आखिर में कांग्रेस बुरी तरह लुढ़क गई। सोनिया गांधी को तो अपनी गलती का अहसास हो गया होगा, लेकिन उनके इर्द-गिर्द चापलूसों का जो जमावड़ा खड़ा हो गया है उसने वक्त रहते गलती सुधारने नहीं दी।

Syndicate content