कांग्रेस ने मणिपुर की राज्यपाल को फर्जी पत्र सौंपा :एनपीपी

Publsihed: 13.Mar.2017, 23:17

मणिपुर में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियों ने सरकार बनाने का दावा है। दोनों पार्टियों ने अपने पास एनपीपी का समर्थन होने की बात कही है। कांग्रेस ने राज्यपाल नजमा हेपतुल्लाह को नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के समर्थन वाला पत्र भी सौंपा, लेकिन उन्होंने उसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया। वहीं एनपीपी ने दावा किया है कि कांग्रेस ने हमारे समर्थन वाला जो पत्र राज्यपाल को सौंपा है, वह फर्जी है। एनपीपी नेता कॉनार्ड संगमा ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, ‘कांग्रेस ने हमारे समर्थन के दावे वाला जो पत्र राज्यपाल को सौंपा है, वह फर्जी है। हमें इसकी जानकारी नहीं है। इस पर हस

पर्रीकर का शपथ रोकने कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट गई

Publsihed: 13.Mar.2017, 22:43

पणजी। गोवा में मनोहर पार्रिकर के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से एक दिन पहले एक बड़ा पेंच फंस गया है। कांग्रेस ने पर्रिकर के सीएम पद की शपथ लने पर सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। इसके अलावा कांग्रेस ने कोर्ट से इस मसले पर तुरंत सुनवाई करने की गुजारिश की । जिस पर मुख्य न्यायधीश ने संवैधानिक पीठ का गठन कर दिया है , कोर्ट इस मामले में गंभीरता को देखते हुए मंगलवार को सुनवाई करेगी।

कांग्रेस सोई रही ,भाजपा ने गोवा-मणिपुर में बाजी मार ली

Publsihed: 13.Mar.2017, 16:51

गोवा में भी बीजेपी की सरकार बन गई | मणिपुर में भी बन रही है | अलबता उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड से पहले बन रही है | उत्तराखंड और  उत्तरप्रदेश में तो दो अनार, सौ बीमार हैं | गोवा में अनार था ही नहीं, बीमार कौन होता | जिन्होंने अनार दिया, उन्हीं ने बीमार भी बता दिया | असल में 40 के सदन में भाजपा को सिर्फ 13 सीटें मिली | जबकि कांग्रेस को 17 सीटें मिली | पर बीजेपी को 32.5 फीसदी वोट मिले | जबकि कांग्रेस को 28.4 फीसदी वोट मिले | भाजपा को सीटें तो 4 कम मिली, पर वोट 4 फीसदी ज्यादा मिले |

गोवा में भाजपा सरकार बनने पर कांग्रेस में फूट

Publsihed: 13.Mar.2017, 12:40

पणजी। गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने राज्य में सरकार बनाने के लिए बीजेपी नेता मनोहर पर्रिकर को न्यौता दे दिया है। मनोहर पर्रीकर मंगलवार सुबह 11 बजे पद और गोपनीयता की शपथ ग्रहण करेंगे | शपत ग्रहण समारोह में अमित शाह, राज नाथ सिंह और नितिन गडकरी हिस्सा लेंगे | राज्यपाल ने मनोहर परिकर को शपथ ग्रहण के बाद 15 के अंदर विधानसभा में बहुमत साबित करने का समय दिया है |

मैं नया भारत देख रहा हूँ : मोदी

Publsihed: 12.Mar.2017, 18:45

नई दिल्ली | उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में प्रचंड बहुमत मिलाने के बाद आज शाम भाजपा मुख्यालय में आयोजित स्वागत समारोह में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लोग अब बड़ी तादाद में चुनावों में हिस्सा लेने लगे हैं , जो लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत हैं | लोकंतान्त्रिक पंडितों का मज़ाक उड़ाते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें समझना चाहिए कि बड़ी तादाद में वोटिंग का क्या मतलब होता है |

नेहरू के बाद दिल्ली की सड़कों पर मोदी का स्वागत

Publsihed: 12.Mar.2017, 17:43

नई दिल्ली: पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आ जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दिल्ली की सडकों पर स्वागत किया गया | मोदी 300 मीटर तक पैदल चलते हुए भाजपा कार्यालय पहुंचे, जहां उन्होंने दीं दयाल उपाध्याय की प्रतिमा को माल्यार्पण किया | उन के स्वागत के लिए एक भव्य कार्यक्रम रखा गया था | 

राम जन्मभूमि मंदिर के लिए मिला जनादेश

Publsihed: 12.Mar.2017, 16:01

नई दि्ल्ली। केंद्र और अब उत्तर प्रदेश में भी भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के बाद विधानसभा और संसद से पास करवा कर राम जन्म भूमि मंदिर बनवाने की मांग उठानी शुरू हो गई है |

भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी का कहना है कि यूपी में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के बाद राम मंदिर बनाना आसान हो गया है। स्वामी ने कहा कि “उन्होंने सुन्नी वक्फ बोर्ड से बात कर सरयू नदी के किनारे मस्जिद बनाने का प्रस्ताव दिया है, लेकिन राम मंदिर वहीं बनेगा,जहां हम बनाना चाहते हैं।”

गोवा में बहुमत जुटाने की जिम्मेदारी पर्रीकर के कन्धों पर

Publsihed: 12.Mar.2017, 15:49

पणजी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नवनिर्वाचित विधायकों ने रविवार को रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में वापसी की मांग को लेकर एक प्रस्ताव पारित किया। यह प्रस्ताव पर्रिकर, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और कार्यवाहक मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर की मौजूदगी में भाजपा विधायकों की एक बैठक में पारित किया गया।

अब वे यूपी की जनता को साम्प्रदायिक कहेंगे ?

Publsihed: 12.Mar.2017, 01:10

मनीष ठाकुर / गुजरात की जनता को अपमानित करने वाले अब यूपी की जनता को साम्प्रदायिक कहेंगे? वो साजिश रचते रहे , नफरत फैलाते रहे ,खुद को पत्रकार कहने वाले। वे इस नफरत फैलाने की कीमत वसूलते थे। आम जन उनकी फर्जी ख़बरों को सत्य मानती रही। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा,भारत की सबसे बड़ी अदालत द्वारा बनाई एसआईटी ने  2013 तक साफ कर दिया कि ज्ञानवीरों की साजिश में दम नहीं है। घटिया स्तर तक जाकर ,दंगा के दौरान, गर्भ से बच्चे निकालकर मारने की एनजीओ और एनडीटीवी व् मीडिया गिरोह की साजिश की कहानी बेपर्दा होने के बाद भी पत्रकारिता का बलात्कार जारी रहा।